गुजरात में भाजपा को लगा झटका: अमूल डेयरी डायरेक्टर बोर्ड पर कांग्रेस का दबदबा, 11 सीटें में से जीती…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गढ़ कहे जाने वाले गुजरात में कांग्रेस पार्टी को बड़ी सफलता हाथ लगी हैं. कांग्रेस ने देश भर में अमूल डेयरी के नाम से मशूहर कैराना जिला कोआपरेटिव मिल्क प्रोडक्शन यूनियन लिमिटेड के प्रतिनिधित्व करने वाले बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर के चुनावों में जीत दर्ज की हैं. यहां पांच साल बाद हुए बीते शनिवार को हुए निदेशक मंडल के चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 11 में से 8 सीटें पर जीत हासिल की हैं.

द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार अमूल डेयरी सोसायटी विभाग परिसर में सोमवार को हुई मतों की गितनी में मतार से बीजेपी विधायक केसरसिंह सोलंकी को कांग्रेस के संजय पटेल के हाथों हार का स्वाद चखना पड़ा.

amul

आपको बता दें कि साल 2017 के विधानसभा चुनाव में पटेल ने सोलंकी के खिलाफ चुनाव लड़ा था लेकिन उनकी शिकस्त हो गई थी. इसके आलवा आनंद से कांग्रेस विधायक कांती सोढा परमार ने 41 वोटों से सफलता हासिल की हैं.

वहीं बोरसद से कांग्रेस विधायक राजेंद्रसिन्हा परमार बोरसद-अंचल सीट से बहुत बड़ी जीत हासिल की हैं. परमार अमूल के उपाध्यक्ष भी हैं. इसके आलावा खम्भात से सीता परमार, पेटलाद से विपुल पटेल, कथलल से घीला जला, बालासिनोर से राजेश पाठक और महमदवद से गौतम चौहान ने चुनाव जीत लिया हैं.

कांग्रेस कांती सोढा को आनंद ब्लॉक में कुल 107 वोट में से 41 मत प्राप्त हुए जबकि तीन मत ख़ारिज कर दिये गए, उन्होंने बीजेपी विधायक गोविंद परमार को करीबी मुकाबले में हराया.

वहीं कांग्रेस के राजेंद्रसिंह परमार को बोरसद सीट से मिली जीत कांग्रेस के लिए यादगार और महत्वपूर्ण रही, क्योंकि अनुभवी कांग्रेसी नेता को बोरसद ब्लॉक से सभी 93 वोट हासिल हुए.

पेटलाद से कांग्रेस के विपुल पटेल ने जीत हासिल की, मतार से बीजेपी के दिग्गज नेता और विधायक केसरसिंह सोलंकी को करारी हार का सामना करना पड़ा, उन्हें कांग्रेसी नेता संजय पटेल ने 88 मतों में से 47 वोट हासिल करके हरा दिया जबकि सोलंकी को सिर्फ 26 वोट मिल सके.