गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल से लेकर… क्या कांग्रेस के ये 23 नेता बीजेपी से मिले हैं?

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक चल रही हैं, इसी बीच पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखे जाने का मामला गर्मा गया हैं. पार्टी के टॉप 23 नेताओं द्वारा सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखने पर राहुल गांधी ने इन नेताओं पर बीजेपी से सांठगांठ पर आरोप लगा दिया है. राहुल के इस आरोप के बाद पार्टी में संक’ट गहराता जा रहा हैं. वहीं कांग्रेस पार्टी के यह नेता काफी खफा हो गए हैं और उन्होंने इन आरोपों को ख़ारिज किया हैं.

राहुल गांधी ने 23 नेताओं जिनमें कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद जैसे नेता शामिल हैं पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन नेताओं द्वारा चिट्ठी ऐसे समय में भेजी गई जब पार्टी संक’ट का सामना कर रही हैं और उनकी मां सोनिया गांधी बीमार हैं.

राहुल ने कहा कि यह चिट्ठी बीजेपी की मिलीभगत से लिखी गई हैं और इसे मोदी ने पढ़ा है. बता दें कि राहुल से पहले इस तरह के आरोप पूर्व मंत्री केके तिवारी भी लगा चुके हैं. उन्होने कहा था कि यह बीजेपी की साजिश हैं, चिट्ठी में बीजेपी के कांग्रेस मुक्त भारत का एजेंडा हैं.

वहीं राहुल गांधी के इस बयान के बाद पार्टी के यह नेता नाराज बताए जा रहे हैं. चिट्ठी लिखने वालों में शामिल गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल ने खुलकर नाराजगी जाहिर की हैं.

गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि अगर बीजेपी के साथ उनकी मिलीभगत साबित हो जाती हैं तो वो इस्तीफा दे देंगे. वहीं कपिल सिब्बल ने एक ट्वीट करके कहा कि राहुल गांधी कहते हैं हमने बीजेपी के साथ सांठगांठ की है.

उन्होंने आगे कहा कि राजस्थान हाईकोर्ट में कांग्रेस के पक्ष में सफल हुआ. मणिपुर में भाजपा की सरकार गिराने के मामले में पार्टी का बचाव किया. बीते 30 सालों के दौरान कभी भी बीजेपी के पक्ष में कोई भी बयान नहीं दिया. फिर भी बीजपी के साथ मिलीभगत कर रहे हैं.

हालांकि कपिल सिब्बल ने अपना ट्वीट डिलीट कर लिया हैं. बताया जा रहा है कि कांग्रेस कार्यसमिति में इस मामले पर फ़िलहाल बहस चल रही हैं. इसी बीच खबर है कि सोनिया गांधी ने अपने इस्तिफें की पेशकश की हैं.

फिलहाल कांग्रेस में जारी घमासान में जिन 23 नेताओं पर बीजेपी के साथ मिलीभगत के आरोप लगे हैं उनमें से कई नाम ऐसे भी हैं जो पार्टी के लिए संक’टमोचक की भूमिका निभा चुकी हैं. इन नेताओं ने कोर्ट से लेकर राजनीतिक गलियारों तक हर जगह अपनी योग्यताओं से पार्टी का बचाव किया हैं.

लेकिन आज कांग्रेस में चल रहे सं’कट के बीच राहुल गांधी ने इन्हीं नेताओं की निष्ठा पर सवालियां निशान लगा दिये हैं. इन नेताओं में शामिल हैं- कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद, शशि थरूर, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी, विवेक तन्खा, रेणुका चौधरी, मुकुल वासनिक, जितिन प्रसाद, एम वीरप्पा, मोइली, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पृथ्वीराज चव्हाण, पीजे कुरियन, मिलिंद देवड़ा, अजय सिंह, राज बब्बर, अरविंदर सिंह लवली, अखिलेश प्रसाद सिंह, कौल सिंह ठाकुर, कुलदीप शर्मा, योगानंद शास्त्री, संदीप दीक्षित.

साभार- एनडीटीवी