ईद-उल-अज़हा: आखिर क्यों जानवर खरीदने से डर रहे हैं लोग? जानिए वैकल्पिक उपाय

ईद-उल-अज़हा: आखिर क्यों जानवर खरीदने से डर रहे हैं लोग? जानिए वैकल्पिक उपाय

देश भर में कोरोना वायरस से संक्र’मण के मामले जिस तेजी से बढ़ रहे है उसने हर किसी को चिंता में डाल दिया हैं. इसी बीच मुस्लिम समुदाय का पर्व ईद-उल-अज़हा करीब आ रहा हैं. इस बार कोरोना महामा’री के चलते उत्सव का रंग कुछ फीका पड़ने की संभावनाएं जताई जा रही हैं. लोग त्यौहार की तैयारियों में जुट गए हैं लेकिन इस बार काफी सुरक्षा बरतनी होगी क्योंकि एक छोटी-सी भी गलती हमें कोरोना सं’क्रमित के संपर्क में ला सकती हैं.

इसी बीच ईद-उल-अधा के उत्सव को लेकर हैदराबाद से एक महत्वपूर्ण खबर सामने आई हैं. बताया जा रहा है कि शहर में कोविड-19 महामा’री के चलते भेड़ की कम आपूर्ति हो रही हैं.

दरअसल हैदराबाद में देश के विभिन्न राज्यों से जानवरों को लाया जाता रहा हैं लेकिन इस बार कोरोना महामरी के चलते ऐसा बड़े पैमाने पर नहीं हो पा रहा हैं. इसी के चलते भेड़ की कमी शहर भर में देखी जा रही हैं.

जानवर आपूर्ति के आलावा और भी कई बातें देखने को मिल रही हैं, बताया जा रहा है कि लोग कोरोना के डर से अपने घरों से बाहर निकलने से हिचक रहे है. लोग भेड़ खरीदने के लिए बाहर जाने के लिए अनिच्छुक हैं. कई लोग इसके बदले में वैकल्पिक विकल्प तलाश रहे हैं.

कोरोना वायरस के चलते बनी इस स्थिति को देखते हुए कुछ सामाजिक संगठन आए गए और वैकल्पिक विचार सुझाया हैं. इन संगठनों का कहना है कि वो ग्राहकों की तरफ से जानवरों की बलि देंगे. इसके साथ ही वो जानवर के मांस को घरों तक वितरित भी करेंगे.

हालांकि ग्राहकों को इन संगठनों की सेवा लेने के लिए पहले से ही बुकिंग करना होगा ताकि वो जरुरी व्यवस्था कर सके. इसे लेकर हुसाम ज़ुहैब भी लोगों को यह सेवा मुहैया कराने के लिए सक्रीय हैं.

उन्होंने कहा कि वो बलि देने के बाद ग्राहक तक मांस पहुंचाएंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर ग्राहक चाहे तो वो पूरा मांस गरीबों में वितरित भी कराया जाएगा.

इस आईडिया को लेकर यह संगठन सोशल मीडिया पर काफी प्रचार कर रहे है ताकि इसे लोकप्रियता मिल सके. इसका प्रचार करते हुए बताया जा रहा है कि इसका मुख्य उद्देश्य सोशल डिस्टेंट को बनाए रखना और लोगों में कोरोना वायरस के प्रसार को बचाना हैं.

हैदराबाद काफी समय से कोरोनावायरस का हॉटस्पॉट बना हुआ है, इसलिए शहरवासी वायरस के प्रसार को रोकने के लिए अधिक सावधानी बरतना चाहते है इसलिए लोग इसमें खूब रूचि ले रहे हैं.