चुनाव में बुरी तरह हार के बाद मनोहर लाल खट्टर बोले “राजनीति छोड़ दूंगा अगर किसानों को MSP के लिए…

हरियाणा की सत्तरूढ़ पार्टी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अंबाला और सोनीपत शहरों में मेयर की चुनावी दौड़ हार गई. माना जा रहा है कि सत्तारूढ़ दल को किसानों की नाराजगी झेलनी पड़ी,

जब से किसान आंदोलन शुरू हुआ है तब से सत्ता के गलियारों में भी तीखी बहस शुरू हो गई है। किसान आंदोलन के चलते देश के दिग्गज नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। कुछ ऐसे हैं जो किसान आंदोलन को समर्थन देते हुए दिखाई दे रहे है तो वही वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो किसान आंदोलन को एजेंडा करार दे रहे है। लेकिन इन सबके बीच अब हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का एक बड़ा बयान सामने आया है जो काफी चर्चा में बना हुआ है।

आपको बता दें कि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के इस आंदोलन को अब 1 महीने से ज्यादा का समय हो चला है। वही किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच कई वार्ताएं हुई है। हाल ही में 30 दिसंबर के दिन सातवें दौर की वार्ता रखी गई जिसमें सरकार और किसान संगठनों के बीच पराली तथा बिजली संबंधी कानूनों पर सहमति बनी है।

manohar lal khattar

लेकिन फिर भी अभी किसानों की मुख्य मांग जिनमें कृषि कानूनों को रद्द करना तथा एमएसपी (MSP) की गारंटी शामिल है। ऐसे में किसानों का कहना है कि जब तक सरकार इन तीनों काले कानूनों को वापस नहीं ले लेगी जब तक किसी भी हालत में यह आंदोलन खत्म नहीं होने देंगे।

अब हरियाणा के मुख्यमंत्री ने दिया बड़ा बयान

गौरतलब है की, जब से किसान आंदोलन शुरू हुआ है तब से हरियाणा के मुख्यमंत्री लगातार किसान आंदोलन पर अपने बयान देते रहे हैं इससे पहले भी हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर चला था। लेकिन अब हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किसानों को समर्थन देते हुए बड़ी बात कही है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि “अगर कोई भी एमएसपी (MSP) यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य को खत्म करने की कोशिश करता है तो वे राजनीति छोड़ देंगे।

उन्होंने आगे कहा कि 2020 में कोरोना और किसान अपनी छाप छोड़ गया है। बता दें कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का यह बयान ऐसे समय में आया है जब हाल ही में हरियाणा में नगर निकाय चुनाव हुए हैं। और हरियाणा में सत्तारूढ़ दल को पांच नगर निकायों में से तीन में हार का सामना करना पड़ा है।

वहीं आपको यह भी बता दें कि हाल ही में हरियाणा के डिप्टी सीएम और जन नायक पार्टी के नेता दुष्यंत चौटाला का भी बड़ा बयान सामने आया था उन्होंने कहा था कि “जब तक में सत्ता में हूं किसानों के लिए उनकी फसल पर एमएसपी (MSP) सुनिश्चित करवाऊंगा और जिस दिन में ऐसा करने में नाकाम हुआ उसी दिन अपना पद छोड़ दूंगा।

वहीं नगर निकाय चुनाव में सत्तारूढ़ पार्टी की हार के बाद बीजेपी के विधायक का भी बयान सामने आया है बीजेपी विधायक असीम गोयल ने कहा कि दिल्ली बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन ने चुनाव पर असर डाला है। सरकार जब अच्छा काम करती है तो हर कोई उनके साथ एकजुट होकर उस लक्ष्य को पाने की कोशिश करता है।

भाजपा विधायक असीम गोयल आगे कहा की अब हरियाणा में भी ऐसा ही हो रहा है क्योंकि उनका लक्ष्य बेमतलब का है। उनका मानना है कि पहले बीजेपी का सामना करो आपसी मतभेद बाद में सुलझा लेंगे। वे बस बीजेपी को रोकना चाहते हैं।