हाथरस केस: अभी तक क्या क्या हुआ है- देखिए ग्राउंड रिपोर्ट

हाथरस केस: अभी तक क्या क्या हुआ है- देखिए ग्राउंड रिपोर्ट

उत्तरप्रदेश के हाथरस में हुए कथित गैं’ग रे प मामले ने देश को झिझोर कर रख दिया है. देश भर में इस मामले के खिलाफ आक्रो’श देखने को मिल रहा है. वहीं इस मामले में यूपी के एडीजी प्रशांत कुमार का कहना है कि फ़ोरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक महिला के साथ दु’ष्क’र्म नहीं हुआ हैं बल्कि उनकी मौ#त का कारण गर्द’न में आई गंभी’र चो’टें है. यूपी पुलिस के अनुसार रीढ़ की ह’ड्डी टूट’ने वाली बात गलत है, पी’डिता की गर्द’न की ह’ड्डि’यां टूटी थी जो ग#ला दबा’ने के प्रयास में टू’ट गई होगी.

वहीं दूसरी तरह दिल्ली के सफ़दरजंग हॉस्पिटल ने बयान जारी करके कहा है कि 28 सितंबर को 20 वर्ष की महिला को सफ़दरजंग हॉस्पिटल लाया गया, इस दौरान उनकी हालत का’फ़ी गंभी’र थी. जब उसे भ’र्ती किया गया तो वो सर्वाइकल स्पा’इ’न इंजरी, क्वे’ड्रिफ़्ले’जि’या (ट्रॉमा से लकवा मा#रना) और गंभी’र सं’क्रम’ण (सेप्टि’के’मिया) से पी’ड़ि’त थीं.

पीड़िता का घर (साभार- बीबीसी)

बीबीसी न्यूज़ की ग्राउंड रिपोर्ट के अनुसार कुछ स्थानीय पत्रकारों ने बताया कि यह मामला उतना बड़ा नहीं था जितना इसे बना दिया गया है. इसकी सच्चाई कुछ और भी हो सकती हैं. वहीं जब उनके रिपोर्ट करने का सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि यह मामला भावना’ओं से जुड़ा है, इसलिए हम अपने लिए कोई ख’त’रा क्यों मोल लें?

हालाँकि उनके पास अपनी बात के समर्थन में कोई ठोस सबूत भी नहीं थे. वो यह बात सुनी सुनाई बातें के आधार पर कह रहे थे. हालांकि यही बातें गांव में भी सुनाई दी.

वहीं इस घ’ट’ना के कुछ देर बाद रिकॉर्ड किये गए वीडियो में पी’डि’ता ने ह#त्या के प्रयास की बात कहते हुए एक मुख्य अभियुक्त का नाम लिया. वहीं हॉस्पिटल में रिकॉ’र्ड किए गए एक दूसरे वीडियो में और पुलिस को दिये बयान ने उसने अपने साथ हुए गल’त काम की बात कहीं.

उसने बताया कि दो लोगों ने उसके साथ दु’ष्क’र्म किया और बाकि दो मेरी माँ की आवाज़ सुनकर भाग गए थे. पी’ड़ि’ता की माँ ने बताया कि घ’ट’ना के बाद उसने एक का नाम लिया फिर वो बेहो’श हो गई इसके चार दिन बाद उसे सुध आई. उन्होंने बताया कि वो उन्हें बाजरे में खे’त में बिना कप’ड़ों की मिली थी.

वहीं सफ़दरजंग हॉस्पिटल ने जो ऑ’टॉ’प्सी रिपोर्ट दी है, उसमें मौ’त की वजह ग’ले के पास रीढ़ की ह’ड्डी में गहरी चो’ट बताई है. रिपोर्ट के अनुसार उसके ग’ले पर दबाए जा#ने के निशान हैं, लेकिन ये मौ’त का कारण नहीं है. मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया है कि अभी विसरा रिपोर्ट आनी बाक़ी है उसी के बाद मौ#त की सही वज’ह पता चल सकेगी.

 

वहीं इस पुरे मामले में पुलिस की भूमिका पर कई सवाल उठ रहे है, जिनके जवाब अभी तक नहीं मिल सके हैं.

  • पुलिस द्वारा घ’ट’ना स्थल को सील क्यों नहीं किया गया. वहां से मामला सामने आने के पहले दिनों में साक्ष्य क्यों नहीं जुटाए गए?
  • पुलिस ने रात के अंधेरे में ज़बरन अंति’म संस्का’र क्यों किया?
  • पी’ड़ि’ता की मेडिकल रिपोर्ट उसके परिवार के साथ साझा क्यों नहीं की ग’ई?
  • तकनीकी सबूत क्यों नहीं जुटाए गए और आरोपियों की गिरफ़्ता’री में देर क्यों हुई?

साभार- बीबीसी हिंदी