VIDEO: एक-एक की ज़िन्दगी बर्बा'द कर दूंगा, काली पट्टी की तरह ज़िन्दगी काली कर दूंगा- मेरठ पुलिस

VIDEO: एक-एक की ज़िन्दगी बर्बा’द कर दूंगा, काली पट्टी की तरह ज़िन्दगी काली कर दूंगा- मेरठ पुलिस

अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश में नागरिकता कानून और एनआरसी पर लोगों के विरो’ध प्रदर्शन हो रहे थे जिसमें से 20 दिसंबर को हुए इस प्रदर्शन के दौरान हिं’सा होने की खबरें सामने आई थी. इस प्रदर्शन मैं कई लोग भी मारे गए थे, और कई घायल भी हुए थे. इन्हीं प्रदर्शनों के दौरान मेरठ सिटी एसपी का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है. जिसमें वह कुछ समुदाय विशेष के लोगों को धमका’ते नज़र आ रहे हैं.

जब मेरठ सिटी एसपी, अपनी टीम के साथ प्रदर्शन के दौरान एक गली में घुसते हैं. तब वहां दो-तीन लोग उन्हें खड़े दिखाई देते हैं. आपको बता दें कि यह विडियो लिसारी गेट के पास का बताया जाता है, जहां पर सिटी एसपी अखिलेश वहां के स्थानीय निवासियों को विडियो में कहते दिख रहे हैं, कि भाग कर कहां जाओगे एक एक को ठीक कर दूंगा.

उत्तर प्रदेश पुलिस भी अब पाकिस्तान भेजने लगी है

पुलिस की टीम के साथ आए एक दूसरे पुलिस के जवान ने कहा कि वह 4 लोग हैं, हमने फोटो ले लिए हैं और अब देखते हैं कि वह बच कर कहां जाएंगे. इधर गली में 3 लोग खड़े हुए हैं जिसको एसपी यह कहते हुए दिखाई दे रहे हैं, यह मुझे याद हो गया है, और जब मुझे याद हो जाता है तो में नानी तक पहुंचता हूं.

यह याद रखिएगा आप लोग, जब कुछ हो जायेगा तो चले आना. इसके अलावा वह कहते हैं कि खाओगे यही का और गाओगे कहीं और का? गली में खड़े होकर एसपी धम’की देते हुए नजर आ रहे हैं कि इस गली के एक एक घर के एक एक आदमी को जेल में बंद कर दूंगा.

बर्बाद करके छोड़ दूंगा मैंने कह दिया उनको बता देना, सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस का ऐसा रूप देखकर तमाम यूज़र अपनी अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. देश में क्या-क्या हो रहा है जिसको देखो वही पाकिस्तान भेजने की बात करता है.

लगता है जैसे कि फेसबुक, व्हाट्सएप और सत्ताधारी लोगों के द्वारा उनकी आई टी सेल के जरिए यह गोबर लोगों के दिमाग में घुस गया है, कि इस देश का मुसलमान इस देश का नागरिक नहीं, बल्कि पाकिस्तानी ही है. और उसको वही भेजना चाहिए.

आखिर ऐसी क्या वजह है कि समुदाय विशेष के लोगों को देखकर इस तरह लोग क्यों छिड़ते हैं. आन्दोलन तो करणी सेना ने भी किया था, हरयाणा में जाटों ने भी किया था, राजस्थान में गुर्जरों ने भी किया था.

इनके प्रदर्शनों में क्या-क्या हुआ था ये सारे देश ने देखा, तब किसी ने इनको पाकिस्तान भेजने की ज़हमत नहीं उठाई? ये समुदाय विशेष से नफ़रत है या कोई खुन्नस.

Leave a Comment