अभी अभी: भारतीय वायुसेना का लापता AN-32 विमान को लेकर सामने आई बड़ी जानकारी

दोस्तों पिछले काफी दिनों से हमारा एक भारतीय वायुसेना का विमान AN-32 लापता है. इस विमान को खोजने के लिए हमारी वायु सेना ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है. फिर भी आज तक इस विमान का कोई सुराग हाथ नहीं लग रहा है. वायु सेना के अलावा इस विमान को खोजने के लिए नौसेना और थल सेना का भी सहारा लिया गया, यहां तक कि पुलिस सुरक्षा बल समेत देश की शीर्ष खुफिया एजेंसियों के द्वारा भी इस को खोजने के प्रयास विफल रहे.

दोस्तों ऐसा नहीं है कि यह विमान पहली बार लापता हुआ है. इससे पहले भी दो विमान ठीक इसी तरह से पहले भी लापता हो चुके हैं. आपको बता दें कि भारतीय वायु सेना का AN-32 सैन्य परिवहन विमान जिसने 3 जून को असम से अरुणाचल प्रदेश के लिए उड़ान भरी थी.

इस विमान में हमारी वायु सेना के 13 जवान सवार थे खबरों की रिपोर्ट के मुताबिक साल 1986 में भी रूस से ओमान होकर भारत आने वाले इसी तरह के विमान को अरब सागर में कहीं खो दिया था, और तब भी इसको ढूंढने के लिए तमाम कोशिशें की गई लेकिन उसका आज तक कोई पता नहीं चला.

इसके बाद वर्ष 2009 में अरुणाचल प्रदेश के मेेचुका से उड़ान भरने के थोड़ी देर बाद ही यह क्रैश हो गया था और तब भी इसके कारणों का पता नहीं चल सका था. उस दौरान इसमें 13 लोग सवार थे. बताया जाता है कि विमान में सवार सभी की मौ’त हो गई थी.

एक और दूसरी घटना यह है जो कि वर्ष 2016 की है जिसमें एक अन्य AN 32 विमान जो कि चेन्नई से अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह के लिए भरा था, लेकिन यह विमान भी बंगाल की खाड़ी में कहीं लापता हो गया और वक्त इस विमान में लगभग 29 लोग सवार थे. इस विमान का भी आज तक किसी भी तरह का नामोनिशान नहीं मिला है.

हैरत की बात यह है की आखिर ये विमान कहाँ और कैसे गायब हो रहे हैं?

सोशल मीडिया पर इस विमान के गायब होने के बाद यह एक गर्म चर्चा का विषय बना हुआ है लोगों को जानने की उत्सुकता है कि आखिर इस तरह से हमारी भी मान क्यों गायब हो रहे हैं.

एक और अहम बात, साल 2009 में AN-32 के विमानों के काफिले को अपग्रेड करने का सौदा किया गया था. जिसमें लगभग 400 मिलियन अमेरिकन डॉलर youkren को देने की डील तय हुई थी.

अपग्रेड करने के बाद इन पुराने विमानों की उम्र 40 साल के लिए और बढ़ गई थी. जिसमें इनके माल लाने की क्षमता और कॉकपिट को आधुनिक तकनीक से लैस करने जैसी सुविधाएं थी.

इस सौदे को होने के बाद लगभग 40 विमानों को अपग्रेड किया गया था, और इन को अपग्रेड करने के लिए यूक्रेन भेजा गया था.

इन 40 विमानों में से यूक्रेन ने रहस्यमई तरीके से 5 विमान खो दिए थे. अभी हाल ही में जो हमारा विमान गायब हुआ है वह दुर्भाग्यवश अपग्रेड होने वाले विमानों में से एक नहीं था तो हो सकता है अटकलें लगाई जा रही हैं कि वह विपदा की हालत में सिग्नल ना भेज सके हो.