CAA पर भारतीय मीडिया खामोश, लेकिन वर्ल्ड मीडिया ने लिखा- कट्टर मोदी ने देश की 14% आबादी को सड़को…

संशोधित नागरिकता अधिनियम (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के खिलाफ भारत के अलग-अलग शहरों में हिं’सक प्रदर्शन जारी है। इस दौरान हजारों लोगों ने सड़कों पर उतरकर मोदी सरकार से इस कानून को वापस लेने की मांग कर रहे है। लेकिन इस सब के बीच देश की मीडिया में इस मुद्दे के विरोध को लेकर गहरी खामोशी पसरी है। लेकिन वर्ल्ड मीडिया में मोदी सरकार के नागरिकता कानून को लेकर लगातार तीखी प्रतिक्रिया हो रही है।

आपको को बता दें अब वर्ल्ड मीडिया ने भी नागरिता संशोधन एक्ट (Citizenship Amendment Act) के मुद्दे पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक लेख लिखा है इस लेख के मुताबिक भारत की कुल जनसंख्या के 14 प्रतिशत मुसलमा’न नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में सड़कों पर उतरे हुए हैं।

जिसमें भारत के नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों का जिक्र करते हुए कहा गया है कि देश में कुल जनसंख्या के 14 प्रतिशत मुसलमा’न इस कानून के खिलाफ सड़कों पर उतरे हुए हैं। लेख में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और देश के गृहमंत्री अमित शाह मुसलमा’नों को हा’शि’ये पर पहुंचाकर भारत को हिंदू राष्ट्र में तब्दील करना चाहते हैं।

Bhaskar दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार न्यूयॉर्क टाइम्स के लेख में अनुच्छेद-370 हटाकर जम्मू और कश्मीर के विभाजन का जिक्र करते हुए कहा की हिंदू राष्ट्रवादी पार्टी भाजपा ने यह कानून बीते हफ्ते पास कराया है। वही प्रधानमंत्री मोदी ने मुस्लि’म बहुमत वाले कश्मीर से भी उसके विशेषाधिकार छीन लिए थे। इस दौरान सरकार ने कई नेताओं को हिरासत में लिया और इंटरनेट सेवाएं बंद कर दीं।

वही न्यूयॉर्क टाइम्स के इस लेख में महात्मा गांधी और पंडित नेहरू का जिक्र किया गया है। इसके अनुसार गांधी और नेहरू ने भारत को एक सेक्यूलर और लोकतांत्रित देश बनाया, जिसमें सभी आस्थाओं के लोग रहते हैं।

लेकिन पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से इसमें बदलाव हो गए है। इसके लिए इतिहास की किताबों को फिर से लिखा जा रहा है और उनमें मुस्लि’म बादशाहों और नेताओं को बाहर रखा जा रहा है। लेख में भारत में बढ़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं का भी जिक्र है।

Leave a Comment