VIDEO: दूरदर्शन चैनल की एंकर का ये 1984 का वीडियो आज के भड़काऊ एंकरों के लिए सबक और मिशाल

VIDEO: दूरदर्शन चैनल की एंकर का ये 1984 का वीडियो आज के भड़काऊ एंकरों के लिए सबक और मिशाल

तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की ह’त्या 31 अक्तूबर 1984 को हुई, इस दिन देश भर में शोक की लहर चल पड़ी. यह खबर देश को दूरदर्शन से बताई गई थी और इसे पढ़ा था न्यूज़ एंकर सलमा सुल्तान ने. इसे लेकर सलमा ने बताया था कि उसके लिए जीवन का सबसे मुश्किल काम 31 अक्तूबर 1984 को किया जब उन्होंने दूरदर्शन पर दुनिया को इंदिरा गांधी की ह’त्या की खबर सुनाई थी.

एक वीडियो सोशल मीडिया पर हाल ही में वायरल हुआ जिसमें सलमा सुल्तान बता रही हैं कि कैसे उन्होंने उस दिन इंदिरा गांधी की ह’त्या की खबर पढ़नी पड़ी थी और वो भी ऐसे हालातों में जब उनके आंसू रुक नहीं रहे थे, वो काफी बेबस हो गई थी.

एक तरफ जहां आज का मीडिया किसी भी खबर को चिल्ला-चिल्ला कर बताता हैं वहीँ सलमा ने जिस तरह से इस खबर को पढ़ा था वो अक्सर ही पत्रकारिता की दुनिया में चर्चा का विषय रहता है.

आज का मीडिया किसी की मौ’त की खबर को भी एक मनोरंजन खबर की तरह बताता है, ढेर सारा शोर और लगातार बदला म्यूजिक, इस दौरान एंकरों में ना तो संवेदनाएं दिखाई देती है और ना जो इस दुनिया में नहीं रहा उसके प्रति कोई सम्मान.

इस तरह की खबरों को किस तरीके से दिखाए जाए, इस मामले में सलमा सुल्तान आज भी एंकरों के लिए एक मिसाल कहीं आए तो कोई अतिशोक्ति नहीं होगी.

सलमा सुल्ताना ने उस वक्त की सबसे लोकप्रिय नेता के दुखद समाचार को बेहद ही गंभीरता और बिना किसी शोर के पढ़ा था. उनके चेहरे पर दर्द के साफ साफ तौर पर समझे जा सकते है, उनकी देशभक्ति और देश प्रेम समेटें उनके आंसू आँखों से झलक उठे थे. वहीं आजतक के एंकर चिल्लाने को ही देशभक्ति समझते है.

सलमा एक वीडियो में बताती है कि इंदिरा जी की ह’त्या ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था. हर कोई स्तब्ध रह गया था. मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं उस खबर को कैसे पढ़ पाउंगी. मेरे आंसू नहीं रुक पा रहे थे लेकिन मुझे कैमरे का सामना करना पड़ा.

सलमा ने उन हालातों को बयां करते हुए कहा कि उन्हें ये ह्रदयविदारक खबर नेशनल टेलिविजन पर पढ़ने के लिए कहा गया था. वो इस खबर से बेहद आहत थी और इसी दौरान उन्हें संयत होकर इस खबर को टीवी पर पढ़ना भी पड़ा.

साभार- इंडिया टीवी