अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ इस देश ने जारी किया गिरफ्तारी वॉ’रंट, इंटरपोल से मांगी मदद, जल्द हो सकती है गिरफ्तारी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ एक देश ने गिरफ्तारी वॉ’रेंट जारी कर दिया है और उन्हें जल्द गिरफ्तार करने के लिए कदम उठाना भी शुरू कर दिया है. इतना ही नहीं उन्हें पकड़ने के लिए इंटरपोल से भी मदद मांगी गई है. ट्रंप के आलावा 12 अन्य लोगों के खि’लाफ भी गिरफ्तारी के लिए वॉ’रेंट जारी किए गए हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को गिरफ्तार करने की हर संभव कोशिश भी शुरू हो चुकी हैं.

अब आप सोच रहे होगें की आखिर किस मामले के तहत ट्रंप के खिलाफ गिरफ्तारी वॉ’रेंट जारी हुआ है और किसने दुनिया के सबसे श’क्तिशा’ली देश के नेता के खि’लाफ गिरफ्तारी वॉरेंट जारी कर दिया है आपको बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खि’लाफ गिरफ्तारी वॉरें’ट ईरान ने जारी किया है.

ईरान को डोनाल्ड ट्रंप और अन्य 12 लोगों पर सं’देह है कि इन लोगों ने ईरान के शीर्ष जनरल को ब’गदा’द में ड्रो’न से ह’मला करके मा’र गिराया था. इसी के चलते इन लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वॉरेंट जारी हुए है. यह जानकारी एक स्थानीय अभियोजक ने सोमवार को बयान जारी करके दी है.

तेहरान के अभियोजक अली अलकसीमहर ने इस मामले पर कहा कि ट्रंप और 30 से अधिक अन्य लोगों लोग बगदाद में 3 जनवरी को हुए ड्रो’न ह’म’ले में शामिल होने का आरोप है. इस ह’म’ले में ईरानी सेना के शीर्ष जनरल का’सिम सुलेमानी की मौ’त हो गई थी.

ईरान ने इस मामले में ट्रंप सहित अन्य लोगों पर ह’त्या और आ#तं’कवा’द के आरोप लगाए गए है. इनकी गिरफ्तारी के लिए इंटरपोल से मदद भी मांगी गई है लेकिन अभी तक फ्रांस के ल्योन में स्थित इंटरपोल ने इस मामले पर कोई जवाब नहीं दिया है.

अली ने आगे कहा कि ईरान ने इंटरपोल से ट्रंप समेत अन्य आरोपियों के खि’लाफ लाल नोटिस जारी करने का अनुरोध किया है. बता दें कि इंटरपोल ईरान के अनुरोध को स्वीकार करे इसकी संभावना कम ही है क्योंकि इसके नोटिस जारी करने के दिशा-निर्देश इसे राजनीतिक हस्तक्षेप या गतिविधि की प्रकृति पर काम करने से रोकते हैं.

आपको बता दें कि ईरान के सर्वोच्च नेता का’सिम सु’लेमा’नी को अमेरिका ने उस समय ड्रो’न ह’मले से मा’र गिराया था, जब वह 3 जनवरी को ब’गदा’द अं’तर्रा’ष्ट्रीय हवाई अ’ड्डे के करीब से अपने काफिले से गुजर रहे थे. सुलेमानी रेवोल्यूशनरी गार्ड के विदेशों में अभियान को अंजाम देने वाले कु’द्स बल की कमा’न संभालते थे.

साभार- नईदुनिया