VIDEO: इरफान खान की कब्र का हाल देख परेशान हुए फैंस, बेटे बाबिल ने बताई बड़ी वजह

VIDEO: इरफान खान की कब्र का हाल देख परेशान हुए फैंस, बेटे बाबिल ने बताई बड़ी वजह

बॉलीवुड सुपरस्टार इरफ़ान खान ने कैंसर से एक लंबी लड़ा’ई लड़’ने के बाद इसी साल 29 अप्रैल को दुनिया से अलविदा कह दिया था. इरफ़ान खान को हमारे बीच से जाए आज पांच महीने हो चुके है. लेकिन उनके परिवार और फैन्स के लिए आज भी इस बात पर यकीन कर पाना आसन नहीं हैं कि बॉलीवुड के चमकते सितारे इरफ़ान अब इस दुनिया में नहीं रहे हैं. इरफ़ान ने ना सिर्फ बॉलीवुड बल्कि हॉलीवुड तक भी अपनी बेहतरीन अदाकारी की छाप छोड़ी हैं.

यही वजह हैं कि देश के बाहर भी इरफ़ान के फैन्स बड़ी तादात में है. इरफ़ान के बेटे बाबिल अपने पिता के बेहद करीब थे. वो अब भी अपने पिता की याद में सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें शेयर करते रहते हैं. इसी दौरान एक तस्वीर को देख कर फैंस चिंतित नजर आए.

दरअसल इरफान खान की कब्र को जिस तरह से बनाया गया है उसे देखकर उनके कई फैंस चिंतित और नाराज नजर आए. जिसके बाद बाबिल ने एक तस्वीर शेयर करके हाल ही में बताया कि इरफ़ान की कब्र को इस तरह से क्यों बनाया गया हैं.

बाबिल ने सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर की हैं जिसमें वो अपने पिता की कब्र के पत्थरों पर पानी डालते हुए नजर आ रहे हैं. इस तस्वीर को शेयर करते हुए बाबिल ने कैप्शन में लिखा हैं कि पापा को यह सब जंगली तरह से ही पंसद था.

उन्होंने लिखा कि हाल ही में मम्मी ने इस जंगलीपन के बारे में लिखा था जिसके बाद कुछ फैन्स इसे लेकर चिंता जाहिर कर रहे थे. मैं उन्हें बताया चाहता हूं कि आप सभी लोग इस बात को समझें वो हमेशा से चाहते थे कि वो इसी तरह से पड़े-पौधों और घास के आसपास रहे.

 

View this post on Instagram

 

Baba liked it wild, Ayaan is staying strong :* mamma recently wrote about the wilderness around when some of his fans were worried that it looked unkempt, I need you to understand, he always always wished to be surrounded by the grass and the plants and the trees. Waste and plastic is always removed from that wilderness. Here’s what my beautiful mamma wrote: “Women are not allowed in Muslim graveyards. Hence, I have planted the raat Ki Rani in Igatpuri where I have a memory stone of his…where I have buried his fav things .I own that place Where I can sit for hours without any one telling me I can’t sit next to him. He is there in his spirit. But that doesn’t mean the graveyard shouldn’t be tended ..but as far as how is a very questionable thing… The wild plants grass have grown in rains.. It’s wild and beautiful is what I saw in the photo you are mentioning..it rains and plants come and they wither in the next season..and then one can clean it. Why should everything be exactly as per definition.. And the plants have grown may be for a purpose look closely.”

A post shared by Babil (@babil.i.k) on

उन्होंने आगे लिखा कि वो हमेशा चाहते थे कि कूड़े और प्लास्टिक को जंगलों से दूर रखा जाए. मैं आपको बता रहा हूं कि मेरी माँ द्वारा क्या लिखा गया था. उन्होंने लिखा था कि मुस्लिम कब्रिस्तानों में महिलाओं को जाने की अनुमति नहीं होती है. इसलिए मैंने लगतपुरी में रात की रानी का पौधा लगाया है.

जहां उनकी याद में एक पत्थर रखा गया है. यहां हमने उसकी पसंदीदा चीजों को दफन किया है. हमने वो जगह खरीद ली हैं यहां पर मैं घंटों बिना किसी को बताए उनके सामने बैठी रहूँ. उनकी रूह वहां पर हैं, पर इसका मतलब यह नहीं है कि उन्हें कब्रिस्तान में छोड़ दिया गया है. जहां तक इस पूछे गए सवाल की बात हैं तो ये जंगली पौधे और घास बरसात के मौसम में उगती है.

साभार- आजतक