कमलनाथ के काम आया कोरोना वायरस सरकार गिराना हुआ मुश्किल? सुप्रीम कोर्ट पहुंची बीजेपी

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश विधानसभा कोरोना वायरस को देखते हुए 26 मार्च तक स्थगित कर दी गई है. इस बात के संकेत पहले ही विधानसभा स्पीकर की ओर से दिए जा रहे थे. हालांकि राज्यपाल लालजी टंडन ने स्पीकर से कहा था कि 16 मार्च को फ्लोर टेस्ट होगा लेकिन सोमवार को विधानसभा की इसका जिक्र भी नहीं हुआ।

दरअसल सीएम कमलनाथ की पूरी कोशिश की थी कि किसी तरह से फ्लोर टेस्ट को टाल दिया जाए ताकि नाराज विधायकों मानाने का वक्त मिल सके. वहीं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान का कहना था कि सरकार अल्पमत में है इसलिए वह फ्लोर टेस्ट से भाग रही है. हलाकि प्रदेश मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि सरकार फ्लोर टेस्ट के लिए पूरी तरह तैयार है।

हलाकि पीसी शर्मा ने कहा कि पार्टी के16 विधायक गायब हैं उनके बिना फ्लोर टेस्ट कैसे हो सकता है. वही विधायकों के गायब होने की बात सीएम कमलनाथ गृहमंत्री अमित शाह को भी बता चुके हैं. पीसी शर्मा ने यह भी कहा कि जिन विधायकों को बेंगलुरू रखा गया है उनको हेप्नोटाइज किया जा रहा है.

वही स्पीकर ने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए विधानसभा की कार्यवाही को आगे बढ़ाया गया है। वहीं, फ्लोर टेस्ट की मांग लेकर विपक्षी दल भाजपा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खट खटाया है।

सुप्रीम कोर्ट में भाजपा नेता और पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान की तरफ से ये याचिका दायर की गई है। इस याचिका में मांग की गई है कोर्ट कमलनाथ सरकार को फ्लोर टेस्ट का आदेश दे। 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद प्रदेश की कमलनाथ सरकार संकट में घिरी हुई है।

वही सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी बीजेपी पर आरोप लगा रही है कि बीजेपी ने उनके विधायकों को बंधक बना रखा है। इसके पहले, राज्यपाल ने सीएम कमलनाथ को निर्देश दिया था कि उनके अभिभाषण के बाद विधानसभा में वे आज ही बहुमत परीक्षण कराएं लेकिन आज विधानसभा की कार्यवाही 26 मार्च तक स्थगित कर दी गई।

इस दौरान सदन की कार्यवाही स्थगित होने के बाद भाजपा नेता राजभवन पहुंचे। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने राजभवन में राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की। और इस बीच, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह भी राजभवन पहुंच गए।

राज्यपाल से मुलाकात के बाद जब वे बाहर आए तो मीडियाकर्मियों ने इस मुलाकात के बारे में पूछा। इसपर दिग्विजय सिंह ने कहा कि राज्यपाल लालजी टंडन के साथ उनके मधुर संबंध हैं और ये औपचारिक मुलाकात थी, हमारी राजनीतिक मुद्दे पर कोई चर्चा नहीं हुई।

Leave a Comment