कानपुर बालिका शेल्टर होम का बड़ा कां’ड, 57 लड़कियां मिलीं कोरोना पॉजिटिव 2 ना’बालि’ग बच्चियां ग’र्भव’ती, बच्चियों के साथ हो रहा है ये काम

देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले तेजी के साथ बढ़ रहे है. इसी बीच कानपूर के एक शेल्टर होम में 57 लड़कियों के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर सामने आई हैं. इतना ही नहीं सबसे बड़ी हैरानी की बात यह है कि इनमें में 5 लड़कियां प्रे’गनें’ट भी पाई गई है. इन लोगों में बीते चार दिनों में यह सारे मामले सामने आए है. इसके आलावा शेल्टर में तैनात चतुर्थ श्रेणी की एक महिला कर्मचारी का टेस्ट में पॉजिटिव आया है.

वहीं ग’र्भव’ती लड़कियों को लेकर डेप्युटी चीफ प्रोबेशन ऑफिसर श्रुति शुक्ला ने कहा कि जो पांच लड़कियां ग’र्भ’व’ती पाई गई हैं, उनमें से एक को ए’चआई’वी ए’ड्स’ भी है. जबकि एक अन्य युवती हेपेटाइटिस सी का शिकार बताई गई हैं.

 

बालिका गृ’ह में लड़कियों के ग’र्भव’ती होने की खबर से बा’वल खड़ा कर दिया है. इसके साथ ही बालिका सं’रक्ष’ण गृह के संचालकों पर भी सवाल खड़े हो रहे है. कानपुर के डीएम ब्र’ह्मदे’व राम तिवारी ने बताया कि शेल्टर होम में आने से पहले ही पांचों लड़कियां प्रे’गनें’ट थीं.

उन्हने बताया कि यह लड़कियां आगरा, एटा, कन्नौज, फिरोजाबाद और कानपुर के शेल्टर होम में आई हैं. वहीं श्रुति शुक्ला ने कहा कि ग’र्भव’ती लड़कियां पॉ’क्स’ ऐ’क्ट के अनुसार पी’ड़ि’त हैं और वो उत्पीड़न के चलते ग’र्भ’व’ती हुई है.

हालंकि इनमें से दो लड़कियां जब दिसंबर में जहां लगी गई थी वो तभी से ग’र्भव’ती थीं. अब उनका गर्भ करीब 8 माह का हो चूका है. दरअसल 12 जून को शेल्टर होम में हुई कोरोना की रैं’डम सै’म्पलिं’ग के दौरान एक लड़की का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाया गया था.

इसके बाद अगले ही कुछ दिनों में यहां कोरोना के मामले 57 तक पहुंच गए. शेल्टर होम में पहला केस सामने आने के बाद यहां रहने वाली सभी 171 लड़कियों का टेस्ट कराया गया था. इनमें से 57 लड़कियों का टेस्ट पॉजिटिव आने से जिले भर में ह’डकं’प मच गया.

आपको बता दें कि कोरोना से पी’ड़ि’त ज्यादातर लड़कियों की उम्र 15 से 17 साल के करीब है. जिला बाल कल्याण समिति के अंतर्गत चलते वाले इस शेल्टर होम में 10 से 18 साल तक की लड़कियों को सं’रक्ष’ण किया जाता हैं.

वहीं जिनका टेस्ट नेगिटिव आगे है ऐसी 114 लड़कियों और 37 कर्मचारियों को क्वारेंटाइन रहने के निर्देश दिए गए हैं. वहीं कानपुर का प्रशासन इस मामले की जांच में जुटा है कि आखिर कैसे कोरोना वायरस शेल्टर होम तक पहुंचा.

इस पर जिला प्रशासन में संभावनाएं जताते हुए बताया है कि शेल्टर होम में काम करने वाली किसी महिला कर्मचारी के जरिए यह वायरस शेल्टर होम में फैला होगा. वहीं इसी महीने यहां लगाई गई 6 नई लड़कियां में से एक का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाया गया हैं.