किसी किले से कम नहीं हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का घर, 12 फ़ुट ऊंची दीवारों वाले क़िले नुमा घर में 50 सीसीटीवी, और कंटीले तर…

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को दबोचने के लिए पुलिस टीम शुक्रवार को उसके घर गई थी. लेकिन वो पहले से इसके लिए तैयार था और मौका पाते ही उसने पुलिस पर गो’लि’यों कि बौ’छा’र कर दी जिसके कई पुलिस वाले श’ही’द हो गए. पुलिस टीम विकास दुबे के जिस घर को भेदने के लिए गई थी वह भी किसी किले से कम नहीं हैं. बता दें कि बि’करू गांव में स्थित विकास के घर की दीवारें 15 फीट से ज्यादा ऊंची हैं और इन पर कां’टेदा’र ता’रों से घेराबं’दी भी की गई है.

इसके आलावा विकास दुबे के घर में 50 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए है. घर में कई लग्जरी गाड़ियों से लेकर ऐशो-आराम की सभी सुविधाएं उपस्थित है.  विकास के घर में तीन दिशाओं में खुलने वाले तीन बड़े गेट भी लगे हुए है. इसके आलावा छत पर पहुंचने के लिए दो सी’ढि’यां भी बनवायी गई हैं.

इतना ही नहीं सभी गेट पर दो-दो सीटीवी कैमरे लगे हैं. जबकि उसके घर कि दीवारों कि उच्चाई इतनी रखी गई है की कोई भी घर के अन्दर झांक नहीं सकता जबकि इस घर के छत से पूरा गांव देखा जा सकता हैं.

पुलिस टीम जब गुरुवार की रात करीब एक बजे विकास को पकड़ने के लिए उनके घर पहुंची तो घर से कुछ ही दूरी पर एक जेसीबी मशीन लगाकर उनका रास्ते ब्लॉक कर दिया गया था. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गांव में सड़क निर्माण का काम जारी है और इसीलिए ही जेसीबी किराए पर ली गई थीं.

खबरों के अनुसार विकास दुबे के घर और उसके आसपास के 4-5 घरों से पुलिस टीम पर ह’म’ला किया गया. जिसके चलते पुलिस टीम को संभल पाने का अवसर नहीं मिल सका. बताया जा रहा है कि विकास के घर के आसपास के घरों में उनके ही रिश्तेदार रहते हैं और इन्हीं घरों से फा’यरिं’ग कि गई हैं.

आसपास के घर विकास दुबे के रिश्तेदारों के घर हैं, जहां से फायरिंग कि गई. वहीं अभी तक पुलिस को यह पता नहीं चल सका है की पुलिस टीम पर फा’यरिं’ग करने में कितने लोग शामिल थे. लेकिन दबी जुबान में पुलिस के आला-अधिकारी गांव के कई लोगों के इस ह’म’ले में शामिल होने की बात कह रहे हैं.

वहीं पुलिस की फोरेंसिक जांच रिपोर्ट्स में खुलासा हुआ है कि पुलिस अधिकारियों को काफी करीब से सिर, छाती, पैर में कई राउंड गो’लि’यां मा’री गई है. वहीं पुलिस विकास के घर में सीसीटीवी कैमरे कि फुटेज से उम्मीद लगाए बैठे थे लेकिन विकास के साथ-साथ सीसीटीवी कैमरों की डीवीडीआर भी गायब हैं.

साभार- आमर उजाला