VIDEO: रावण दहन के दिन गुस्साए किसानों ने PM मोदी और अंबानी-अडानी के फुके पुतले

देश भर में कोरोना वायरस के चलते त्योहारों का मजा फीका हो गया है. दशहरे के पर्व की रौनक भी कम ही नजर आई. वहीं दूसरी तरह कृषि कानूनों के वि’राे’ध के चलते दशहरे पर भी किसानों के प्रदर्शन जारी रहे. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस दौरान कई शहरों में पीएम मोदी के पुत#ले फूं के गए. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सिर्फ मोदी ही नहीं बल्कि देश के कई बड़े काॅर्पो’रेट घरानों के पुत ले भी फूं के गए और इस दौरान जमकर ना’रेबा जी भी की गई.

बताया जा रहा है कि रविवार को किसानों ने दशहरा पर्व के मौके पर पहले ध’र’नों के दौरान मा#रे गए किसानों पर दु’ख जाहिर किया और इसके बाद केंद्र सरकार की किसान मजदूर वि’राे’धी नीतियों की क’ड़ी आलोचना की.

naren

इस दौरान किसानों ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार सिर्फ सपने दिखाने वाली सरकार है, इसमें रामराज्य की कल्प’ना भी नहीं की जा सकती है. एक किसान नेता ने बताया कि अब तक 11 किसानों की मौ#त हो चुकी है, लेकिन इसके बाद भी हमारी कोई सुनवाई नहीं हो रही हैं.

पिछले 25 दिन से लगातार कृषि कानूनों के खिलाफ सं’घ’र्ष कर रहे किसानों ने दशहरे को रोष दिवस के तौर पर मनाते हुए कई जिलों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई पू’जिपति यों, कारपोरेट घरानों और बीजेपी नेताओं के विशाल पुतले जलाए.

जबकि इस बार प्रशासन की तरह से कोरोना महा मा’री को देखते हुए दशहरे मेले के आयोजन की मंजूरी नहीं दी गई थी. बावजूद इसके उन्हीं जगहों पर किसानों ने नरेंद्र मोदी सहित अन्य पुतले जलाए, जहां हर साल दशहरा मेला का आयोजन होता रहा हैं.

इस दौरान पंजाब के संगरूर में स्थानीय महावीर चौक पर किसान संगठनों द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी का पुत ला फूं’का गया और केंद्र की बीजेपी सरकार से इन किसान विरो’धी कानूनों को र’द्द करने की मांग उठाई. इस दौरान रेलवे स्टेशन से महावी’र चौक तक विशा’ल रो#ष रैली भी निकाली गई.

आपको बता दें कि कृषि कानूनों का जमकर विरो’ध किया जा रहा है. हरियाणा, पंजाब और यूपी के कई हिस्सों में वि रो’ध के स्वर लगातार तीखे होते जा रहे हैं. इतने विरो’ध  के बाद भी मोदी सरकार किसानों की बात सुनने  को तैयार नहीं है. यही वजह है कि किसानों ने मोदी का सौ फुट का पुत ला ज#ला कर अपना गु’स्सा जा’हिर किया.

साभार- भास्कर