VIDEO: बिहार को पांच साल पहले पीएम मोदी ने दिया था 1 लाख 25 हज़ार करोड़ का पैकेज क्या हुआ? जाने कहां गए आपके करोड़ों?

VIDEO: बिहार को पांच साल पहले पीएम मोदी ने दिया था 1 लाख 25 हज़ार करोड़ का पैकेज क्या हुआ? जाने कहां गए आपके करोड़ों?

बिहार में चुनावों की तारीखों का ऐलान हो चूका हैं. सूबे में विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग 20 अक्टूबर से होने वाली हैं. ऐसे में सभी पार्टियां भी चुनावी प्रचार-प्रसार और जनता को लुभाने में जुट गयी हैं. सत्ता में नीतीश कुमार के साथ भागीदार बीजेपी ने भी कई लुभाने वाले करना शुरू कर दिया हैं. इसी बीच खबर आई है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के लिए कोई विशेष पैकेज की घोषणा कर सकते हैं?

यह पहला मौका नहीं हैं जब पीएम मोदी राज्य में होने वाले चुनावों से पहले करोड़ों के पैकेज की घोषणा कर सकते हैं? पीएम मोदी ने पांच साल पहले यानि साल 2015 में चुनाव से ठीक पहले बिहार के लिए एक लाख 25 हज़ार करोड़ के पैकेज की घोषणा की थी. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस पैकेज का क्या हुआ.

मोदी सरकार द्वारा दिये गए 1,25,000 करोड़ के पैकेज में से सबसे ज़्यादा 65, हज़ार करोड़ से अधिक राजमार्ग और ग्रामीण सड़कों पर ख़र्च होने थे. लेकिन इस विभाग के मंत्री खुद बताते हैं कि कई परियोजना पांच साल बाद भी शुरू तक नहीं हो सकी हैं.

पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने जनकारी देते हुए कहा कि हमने पुरे पैकेज को 73 भाग में बांटा दिया था, इनमें से 13 पैकेज का काम पूरा हो चूका हैं जबकि उनचास पैकेज पर काम चल रहा है और तेरह पैकेज या फिर टेंडर के प्रॉसेस में हैं.

आपको बता दें कि इस पैकेज से क़रीब 3 हज़ार करोड़ से अधिक कृषि क्षेत्र में खर्च किये जाने थे लेकिन इसका भी कोई अता पता नहीं हैं. इसके आलावा भागलपुर में एक केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना की जाने थी. 1550 करोड़ की लागत से स्किल डेवलपमेंट के क्षेत्र में न सिर्फ एक मेगा स्किल विश्वविद्यालय की स्थापना बल्कि एक लाख युवकों के प्रशिक्षण का भी वादा एनडीए ने किया था.

 

इसके आलावा गांधी सेतु के समानांतर एक पुल का निर्माण किया जाना था लेकिन पांच साल बाद अब उसका शिलान्यास हाल ही में पीएम मोदी ने किया. पिछले दिनों पीएम मोदी ने हर दुसरे दिन बिहार से जुडी किसी ना किसी परियोजना का शिलान्यास या उद्घाटन किया लेकिन उन्होंने अपने घोषित पैकेज का क्या हुआ उस पर कभी कोई बात नहीं की.

वहीं इसे लेकर आरजेडी का कहना है कि पीएम मोदी ने हमेशा उल्लू बनाने का काम किया हैं लेकिन जनता इस बार उल्लू नहीं बनेगी और इस बार उल्लू एनडीए को बना देगी और महागठबंधन की सरकार बिहार में आएगी.

उन्होंने आगे कहा कि पिछले पैसेज का काम अभी तक आधा-अधूरा पड़ा हुआ है और दूसरी तरफ पीएम मोदी रोज नए एलान कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जहां गांधी सेतु के समानांतर पुल बनाया जाना था वहां पर इन पांच सालों में सिर्फ पुराने पुल के एक हिस्से की मरम्मत ही करा पाए हैं. क्या सीएम नीतीश कुमार अपने किये वायदे पुरे कर रहे हैं?

साभार- एनडीटीवी