लाइव डिबेट शो के दौरान संबित पात्रा और राजदीप सरदेसाई में हुई तीखी बहस, ट्विटर पर भी हुई जमकर तू-तू, मैं-मैं

बुधवार को जम्मू-कश्मीर में सोपोर के बारामूला में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए आ’तं’की ह’मले के दौरान एक स्थानीय नागरिक की मौ’त हो गई थी, वहीं उस नागरिक के तीन वर्षीय पोते को पुलिस ने बचा लिया हैं. इसके बाद से ही बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगी थी. तस्वीर में बच्चा अपने नाना के श’व के ऊपर बैठा हुआ बिलख रहा था. इस तस्वीर को बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा ने ट्वीटर पर शेयर किया है.

संबित पात्रा ने अपने ट्विटर अकाउंट से इस तस्वीर को शेयर करते हुए कैप्शन दिया- पुलित्जर लवर्स. इसी के बाद पात्रा की इस पोस्ट पर जमकर बावल मचने लगा. राजनीति से लेकर बॉलीवुड तक पात्रा की पोस्ट की खूब आलोचना की गई. जिसके बाद पात्रा ने कई न्यूज चैलनों पर डिबेट के दौरान अपना पक्ष रखा और पोस्ट पर सफाई भी दी.

इसी मुद्दे को लेकर समाचार चैनल इंडिया टुडे में लाइव डिबेट के दौरान पात्रा और एंकर राजदीप सरदेसाई के बीच तीखी बहस भी हो गई. डिबेट के लिए बड़ा सवाल था कि क्या बीजेपी प्रवक्ता पात्रा ने सीमा रेखा पार कर दी है? हालांकि इस दौरान पात्रा ने अपने ट्वीट का बचाव किया.

एंकर राजदीप ने सवाल करते हुए पूछा कि आपकी सहानुभूति कहां चली गई? जिस पर पात्रा ने कहा कि मैं पुलित्जर तस्वीरों को पसंद करने वालों को बेनकाब करने का प्रयास कर रहा था, जो भारत को अँधेरे में दिखाते है और भारतीय सेना को नीचा दिखाने में लगे रहते है.

बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि उस बच्चे के नाना की मौ’त के लिए जिम्मेदार कौन है? साफ है जो लोग जिहाद को समर्थन देते हैं वहीं हैं. इस पर एंकर ने पूछा कि क्या आप अपनी इस विवादित ट्वीट के लिए माफी नहीं मांगेंगे? जिस पर बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि सॉरी सर.

बता दें कि दोनों के बीच टीबी डिबेट के बाद ट्विटर पर भी खूब तू-तू मैं-मैं हुई. भाजपा प्रवक्ता ने ट्वीट करके कहा कि राजदीप सरदेसाई का दावा है कि उनके रिपोर्टर ने उन्हें बताया है कि सीआरपीएफ ने उस नागरिक को बाहर निकला और मा’र गिराया.

पात्रा ने आगे कहा कि ऐसे में वो सेना पर भरोसा करना पसंद करते है, मगर हम्ममम. मैंने कहा कि मुझे ऐसे पत्रकारों को नहीं सुनना ही नहीं है. मैं आंखें बंद कर अपनी सेना पर भरोसा करता हूं यही अंतर है मेरे और राजदीप के बीच.

इस पर वरिष्ठ पत्रकार राजदीप भड़क उठे और उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा कि आप में और मुझे में अंतर एक देशभक्त नागरिक और एक पार्टी का है. जिस पर पात्रा ने कहा कि बिल्कुल सर, मुझमें और आप में एक कम्युनिस्ट पार्टी के एक सदस्य और देशभक्त नागरिक का अंतर है.

राजदीप ने फिर जवाब देते हुए कहा कि बस एक ही चीज में विश्वास रखता हूं और वो है मानवतावाद. जो तीन साल के लड़के को निम्न स्तर के राजनीति के प्रचार का शिकार नहीं बनती है. स्वस्थ्य रहो, एक डॉ. के रूप में आप एक मरहम लगाने वाले होंगे ना की बांटने वाले ऐसी आशा हैं.

साभार- जनसत्ता