VIDEO: लाइव शो में अमीष देवगन ने जैसे ही पढ़ी कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी के निधन की खबर, फुट फुट कर रोने लगे पैनलिस्ट

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का दिल का दौरा पड़’ने के चलते बुधवार 12 अगस्त की शाम आकस्मिक नि’धन हो गया. निध’न से कुछ समय पहले तक वो एक निजी न्यूज़ चैनल पर डिबेट शो में नजर भी आए थे. बताया जा रहा है कि इसी शो के दौरान उनकी तबीयत बिगड़ गई थी. जिसके बाद उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया था लेकिन यहां उन्हें डॉक्टर ने मृ’त घोषित कर दिया. त्यागी की मौ’त की खबर आग की तरह सोशल मीडिया पर फ़ैल गई.

हर कोई इस खबर से हैरान नजर आया. किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि जो शख्स कुछ देर पहले तक टीवी चैनल पर डिबेट में एक्टिव दिख रहा था वो अब इस दुनिया को अचानक से अलविदा कह गया.

राजीव त्यागी टीवी न्यूज़ डिबेट्स में कांग्रेस के एक चर्चित चेहरे थे. बड़े मुद्दों पर बहस के दौरान भी वो काफी बेबाकी औऱ आ’क्रमक’ता से कांग्रेस पार्टी का बचाव करते हुए नजर आते थे. हालांकि कई बार डिबेट शो के दौरान उनके आचरण को लेकर विवाद भी हुआ. ऐसा ही एक विवाद हिंदी न्यूज़ चैनल न्यूज 18 हिंदी के एंकर अमीष देवगन के साथ हुआ था.

आपको बता दें कि न्यूज 18 हिंदी के लाइव डिबेट शो के दौरान राजीव त्यागी ने ऑनएयर अमीष देवगन के लिए बेहद अपमानजनक शब्दों का प्रयोग कर दिया था. वो देवगन को गा’लियां देते हुए शो से निकल गए थे. इसके बाद सोशल मीडिया पर लंबे समय तक अमीश देवगन ट्रोल हुए थे.

विन जब राजीव त्यागी के दुनिया से चले जाने की खबर सामने आई तब अमीश देवगन अपने चैनल पर एक डिबेट शो होस्ट कर रहे थे. लाइव शो के दौरान ही देवगन ने त्यागी को लेकर खबर पढ़ी और इस पर हैरानी जाहिर करते हुए अपनी संवेदनाएं व्यक्त की.

वहीं अमीश के साथ डिबेट शो में मौजूद पैनलिस्ट जयवीर शेरगिल ने खबर सुनी की कांग्रेस प्रवक्ता त्यागी अब नहीं रहे वैसे ही वो भावुक हो गए और रोने लगे. वो ऑनएयर अपने आंसू पोछते नजर आए और फिर लाइव शो को बीच में ही छोड़कर माफ़ी मांगते हुए उठकर चले गए.

बता दें कि जयवीर शेरगिल एक मशहूर वकील हैं और कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता हैं. वहीं त्यागी के जाने के बाद से ही लोग सोशल मीडिया पर न्यूज़ चैनलों को ट्रोल कर रहे है. लोगों का कहना है कि टीवी चैनल अपनी टीआरपी के लिए आ’क्राम’क बहस कराते हैं. उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं होता कि ये किसी की जा’न भी ले सकता हैं.

साभार- जनसत्ता