लोकडाउन के चलते बंद पड़ी दुकानों के थमा दिए बिल, थाली में खून लेकर पहुंचे लोगों ने कहा- हमारा खून…

कोरोना महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन में भारी नुकसान और मुसीबत झेल रहे व्यापारियों के सामने आब एक और नई परेशानी आ गई हैं. मामला राजस्थान के भीलवाड़ा का हैं, जहां के व्यापारियों में काफी रोष फैला हुआ हैं. दरअसल बिजली विभाग ने इन व्यापारियों को दुकानों का बिल भेज दिया जो महीनों से बंद पड़ी हुई हैं. जिसके चलते पहले से ही तंगी झेल रहे व्यापारियों को इससे भरी झटका लगा हैं.

इसके बाद एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने बंद दुकानों का बिल भेजने के खिलाफ सिक्योर मीटर्स ऑफिस के बाहर जमकर विरोध प्रदर्शन किया. इतना ही नहीं व्यापारियों के इस संगठन ने प्रदर्शन के लिए अनूठा तरीका भी अपनाया. कार्यकर्ताओं ने अपना-अपना खून थाली में निकालकर बिजली विभाग के अधिकारियों से पीने के लिए कहा.

rajstan

इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने कहा कि बिजली कंपनी को व्यापारियों और आम लोगों का खून ही चूसना है तो फिर अप्रत्यक्ष रूप से क्यों? हम सीधे तौर पर आपके लिए खून लाए हैं. देखते ही देखते प्रदर्शन काफी तेज होता गया जिसके बाद घटनास्थल पर पुलिस को आना पड़ा. पुलिस ने किसी तरह प्रदर्शनकारियों को शांत कराया.

इस मामले को लेकर एबीवीपी नेता शंकर गुर्जर ने बताया कि कोरोना के कारण लगाए गए लॉकडाउन में दुकाने बंद थी. लेकिन सिक्योर मीटर्स कंपनी ने बिजली के पुराने बिलों के आधार पर औसत के हिसाब से नए बिल हमें भेज दिए हैं. ऐसे में जब व्यापारियों का कामकाज बंद पड़ा है तो हम बिलों का भुगतान कैसे कर सकते हैं.

इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर बिजली कंपनी ने हमें बिजली बिलों में राहत प्रदान नहीं तो यह आंदोलन उ’ग्र रूप ले सकता हैं. वहीं आपको बता दें कि दुनिया भर में कोरोना वायरस तेजी से अपना कहर बरसा रहा है. आज देश भर में कोरोना सं’क्रम’ण के  9,851 नए मामले सामने आए हैं.

वहीं राजस्थान की बात की जाए तो सूबे में कोरोना का सं;क्रम’ण तेजी के साथ फैलता जा रहा है. प्रदेश में कोरोना वायरस पिछले चौबीस घंटों में चार और लोगों की मौ’त का कारण बना हैं. इसी के साथ ही सूबे में कोरोना से मा’रने वाले की तादात 213 पर पहुंच गई हैं.

इसके आलावा इन 24 घंटों में 210 नए मामले भी सामने आए है जिससे राज्य में इस घा’तक वायरस से ग्रसित मरीजों की कुल संख्या 9862 हो गई है. वहीं इसमें से अभी तक 2545 मरीजों का इलाज चल रहा है.