VIDEO: महिला को मस्जिद में लाउडस्पीकर की आवाज़ का विरोध करना पड़ा भारी, शिकायत पर बोले विधायक- अपना घर..

इलाहबाद हाई कोर्ट ने हाल ही में अपने एक फैसले में कहा था कि किसी भी मस्जिद से लाउडस्पीकर द्वारा अजान देना देना सीधे तौर पर दूसरे लोगों के अधिकारों में दखल है. दूसरों को सुनने के लिए विवश करने का अधिकार किसी को नहीं है. लेकिन इससे समुदाय विशेष के लोगों को कोई फर्क नहीं पड़ता है. लेकिन मुंबई में एक महिला द्वारा इसका वि’रोध करना बहुत भारी पड़ गया.

सोशल मीडिया पर इस महिला ने अपना दर्द बयां करते हुए उन्हें ध’मकाए जाने का आरोप लगाया है. वहीं जब करिश्मा ने विधायक से मदद मांगी तो उन्होंने उल्टा लड़की को ही घर बदल लेने की सलाह दे दी.

मामला शहर के मानखुर्द इलाके से सामने आया है. यहां रहने वाली करिश्मा भोंसले अपने घर के पास की मस्जिद में लगे लाउडस्पीकर की आवाज़ को कम करने का अ’नुरो’ध लेकर मस्जिद गई थी. करिश्मा के अनुसार मस्जिद के पास के मुस्लिम समुदाय ने उनसे और उनकी माँ से बहस शुरू कर दी और उन्हें ध’मका’या और उनसे झ’ड़प भी की.

घ’टना का वीडियो करिश्मा भों’सले ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करते हुए लिखा कि मैं अपने घर के पास स्थित मस्जिद के सम्बंधित लोगों से अनुरोध करने गई थी कि वो लाउडस्पीकर अज़ान की आवाज कम कर दें, जो मेरी खिड़की के ठीक सामने लगा है, लेकिन यह प्रयास व्यर्थ रहा.

एक अन्य ट्वीट में कुछ वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है कि जब वो वहां बात करने पहुँची तो कुछ ही देर में काफी लोग इकट्ठे हो गए और दा’दा’गि’री करने लगे.

इसके साथ ही करिश्मा भों’सले ने अपने ट्वीटर अकाउंट से कुछ व्हाट्सएप चैट के स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा है कि जब उन्होंने इस मामले में स्थानीय विधायक अबू आसिम आजमी से बात की तो उन्होंने जवाब दिया कि यदि अजान की आवाज से समस्या है तो उन्हें वह जगह छोड़कर अपना घर बदल लेना चाहिए.

बता दें कि अबू आज़मी मा’नखु’र्द शिवाजी नगर विधानसभा सीट से सपा समाजवादी पार्टी के विधायक हैं. व्हाट्सएप चैट के अनुसार महिला ने सु’न्नी नूरे इलाही मस्जिद को लेकर आ’वाज उठाई है, जिस पर पुलिस ने कहा कि वह अजान पर पा’बंदी नहीं लगा सकती हैं. वहीं जब मस्जिद में अजान की आवाज़ को कम करने का मुद्दा उठाया गया तो इलाके के कई मुस्लिम समुदाय के लोग भी पुलिस स्टेशन पहुँच गए थे.