एक बार फिर टला मंत्रिमंडल का विस्तार, क्या बीजेपी के अंदर शिवराज की जगह किसी और को मुख्यमंत्री बनाने पर चल रहा है विचार?

मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार का मंत्रिमंडल का संभावित विस्तार एक बार फिर से टल गया. सीएम शिवराज सिंह तीन दिन दिल्ली में रहने के बाद मंगलवार की सुबह ही भोपाल लौटे है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि संगठन मंत्रिमंडल में 13 वरिष्ठ विधायकों की जगह युवा चेहरों को मौका देने का मन बना रहा है जबकि सीएम शिवराज सिंह इससे सहमत नहीं है. ऐसे में सूबे की राजनीति में में इस विस्तार से बड़ी हलचल देखने को मिल सकती है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सीएम शिवराज ने बीते दो दिन में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की. इसके आलावा वे दो बार गृह मंत्री अमित शाह से और शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मंत्रिमंडल को लेकर चर्चा की.

सोमवार तक संभावित मंत्रियों के नाम फाइनल बताए जा रहे थे और 30 जून को शपथ ग्रहण भी होने की खबर थी. लेकिन शाम तक सियासी घटनाक्रम बदल गए. अचानक सूबे के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा को दिल्ली बुला लिया गया और सिंधिया का भोपाल दौरा भी रद्द हो गया.

खबरों के अनुसार अगर संगठन ने नए चेहरों को मौका दिया तो 13 वरिष्ठ विधायकों का मंत्री बनने का सपना टूट जाएगा. जिसमें गोपाल भार्गव, सुरेंद्र पटवा, विजय शाह, रामपाल सिंह, पारस जैन, राजेंद्र शुक्ल, नागेंद्र सिंह, करण सिंह वर्मा, गौरीशंकर बिसेन, अजय विश्नोई, जगदीश देवड़ा और भूपेंद्र सिंह का नाम शामिल है जो पिछली तीन बीजेपी सरकारों में मंत्री रहे है.

इन्हीं अटकलों के बीच विधायक गोपाल भार्गव ने कहा कि बीजेपी भी वहीं गलतियां कर रही है जो कांग्रेस पार्टी ने की थी. पार्टी को वरिष्ठ नेताओं को साथ लेकर चलना चाहिए. सूत्रों के अनुसार शिवराज की ओर से पेश मंत्रिमंडल की सूची को बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने रिजेक्ट कर दिया है.

इसी के साथ खबर ये भी है कि बीजेपी नेता नरोत्तम मिश्र और तुलसी सिलावट को डिप्टी सीएम भी बनाया जा सकता है. वहीं सूत्रों की मानें तो बीजेपी का केन्द्रीय नेतृत्व वरिष्ठ नेताओं की जगह नए चेहरों को मौका देना चाहते है, जिसके चलते पार्टी में विरोध के स्वर उठने लगे है.

इसी बीच बीजेपी के कई नेता खुलकर बयानबाजी करने लगे है. खबरों के अनुसार कई बीजेपी नेता चाहते हैं कि सूबे में मुख्यमंत्री बदला जाए. अभी हाल ही में बीजेपी के वरिष्ठ नेता भंवर सिंह शेखावत ने बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय पर आरोप लगाते हुए कहा था कि वो शिवराज सिंह चौहान की सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रहे है.

साभार- thoughtofnation