VIDEO: मदीने की पाक जमीन पर हुआ बेहद अभ'द्र कपड़ों में Vogue का शर्मनाक फ़ोटो शूट, दुनिया भर के मुसलमान भड़के

VIDEO: मदीने की पाक जमीन पर हुआ बेहद अभ’द्र कपड़ों में Vogue का शर्मनाक फ़ोटो शूट, दुनिया भर के मुसलमान भड़के

सऊदी अरब में क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के खिलाफ दुनिया भर के मुस्लिमों में गुस्सा देखने को मिल रहा हैं. दरअसल क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने मदीना प्रांत में अंतरराष्ट्रीय मॉडलों से संबंधित एक फोटोशूट की अनुमति दी थी जो अब विवादों में आ गया हैं. इसी के चलते सऊदी अरब के खिलाफ दुनिया के मुसलमान नाराजगी जाहिर कर रहे हैं. बता दें कि मदीना शरीफ़ के अल उला में यह फोटोशूट किया गया हैं.

इस फोटोशूट को 24 hours in Al Ula का नाम दिया गया हैं. बताया जा रहा है कि वोग अरब ने 9 जुलाई 2020 को न्यूयॉर्क के लेबल मोनोट के लिए फोटोशूट किया था. इस दौरान मॉडल्स के अ’भद्र ड्रेसस पहनने के कारण मुस्लिम समाज में इसकी निंदा कि जा रही हैं.

 

मीडिया रेपोर्ट के अनुसार मुस्लिमों के लिए बेहद पवित्र शहर मदीना के क्षेत्र में सऊदी सरकार ने इस तरह के आपत्तिजनक और विवादित फोटोशूट को अनुमति देकर इस विवाद को खड़ा कर दिया हैं. सोशल मीडिया पर सऊदी सरकार के इस कदम की खूब आलोचना हो रही हैं.

वहीं कई लोग सऊदी सरकार के खिलाफ वि’रोध भी कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि इस तरह के आपत्तिजन कपड़ों में इस पवित्र शहर में किया गया यह फोटोशूट इस्लाम के खि’लाफ है और अनैति’क है.

इसके अलावा शूट के लिए मुख्य विचार और इसके लिए इस्तेमाल किए गए आउटफिट्स को भी मुस्लिमों द्वारा अनैतिक बताया जा रहा हैं. यह फोटोशूट जिस जगह किया गया है वो यूनेस्को के विश्व विरासत सूची में शामिल है और यह दुनिया का सबसे बड़े खुले क्षेत्र संग्रहालय के रूप में जानी जाती हैं.

यहां जॉर्डन के पेट्रा के समान नक्काशीदार चट्टान के टुकड़े भी मौजूद हैं. प्राकृतिक तौर से भी महत्वपूर्ण स्थान पर होने के कारण भी कई लोग इस विवादित फोटोशूट का विरोध कर रहे हैं. यह क्षेत्र अल उला मदीना से करीब 300 किलोमीटर दूर है लेकिन यह मदीना प्रांत का हिस्सा हैं.

वहीं वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया के अनुसार इस विवादित फोटोशूट को सुधारों के विषय में प्रगति के भाग के तौर पर दिखाई देता है. राष्ट्र आधुनिकीकरण और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करके अपनी अर्थव्यवस्था को बड़ा करने के उद्देश्य से सऊदी सरकार ऐसे कदम उठा रही हैं. अल उला में 24 घंटे सऊदी सरकार ने विजन 2030 के हिस्से के रूप में देखा जा रहा हैं.