VIDEO: दिल्ली चुनाव से पहले वोटरों को लुभाने बीजेपी ने अपनाई थी यह तकनीक, शेयर किए डीपफेक वीडियो

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा था। इस वीडियो में मनोज तिवारी दो भाषाओं अंग्रेजी और हरियाणवी में बोलते नज़र आ रहे थे। इस वीडियो को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने स्प’ष्ट किया है कि भाजपा दिल्ली प्रमुख का यह वीडियो एक प्रयोग था। जिसका उनकी टीम ने अपने व्हाट्सऐप ग्रुप पर परीक्षण किया था।

दरअसल, मनोज तिवारी का दो भाषाओं में एक ही वीडियो जिसे बनाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस एआई का इस्तेमाल किया. इन वीडियो को तकनीक का उपयोग करके इस तरह से तैयार किया गया है कि ऐसा मालूम हो रहा कि तिवारी वास्तव में दो भाषाओं अंग्रेजी और हरियाणवी में बोल रहे हैं।

 

 एक वीडियो में मनोज तिवारी ने हरियाणवी में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के वादों पर निशाना साधा है। असली वीडियो में तिवारी यहीं बात हिंदी में बोल रहे हैं. दोनों वीडियो में चेहरे के हावभाव और होठों के तालमेल को छोड़कर बाकी सभी हावभाव और फ्रेम एक जैसे हैं।

वही इस मामले पर मीडिया से बात करते हुए, दिल्ली बीजेपी आईटी सेल प्रभारी नीलकांत बख्शी ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी का उपयोग कर बनाए गए इस वीडियो को उनके सामने एक फर्म ने प्रस्तुत किया था।

 

जिसे दिल्ली चुनाव के दौरान दिल्ली-एनसीआर में परीक्षण करते हुए इस वीडियो को 5,800 व्हाट्सऐप ग्रुपों पर भेजा गया था। जो लगभग डेढ़ करोड़ लोगों तक पहुंच गया।

वागी इस वीडियो को लेकर बहुत से लोगों ने कहा कि ये वीडियो बड़ा ही दिलचस्प हैं खासकर हरियाणवी भाषा वाला. यह अच्छी बात है कि लोग इसे पसंद कर रहे हैं. किसी ने हमसे कहा कि आप अंग्रेजी में ऐसा क्यों नहीं करते हैं. इसलिए मैंने वॉलेंटियर से आग्रह किया कि कंपनी से अंग्रेजी के वीडियो के लिए बात करे।

 

आपको बता दें इस वीडियो को चंडीगढ़ की कंपनी आइडियाज फैक्टरी ने बनाया है। कंपनी ने एनडीटीवी को बताया, वह क्लाइंट रिलेशनशिप एजेंसी है इसलिए इस पर कमेंट नहीं कर सकती है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, एआई से जुड़े एक जानकार का कहना है कि डीपफेक ऑडियो और वीडियो कंटेट का उपयोग चुनाव में ज्यादा नहीं हुआ है लेकिन गलत राजनीतिक सूचना फैलाने के लिए इसके दुरुपयोग का खतरा रहता है।

Leave a Comment