महाराष्ट्र में बीजेपी को दूसरा बड़ा झटका, एमएलसी चुनाव में बुरी तरह हारी बीजेपी

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में 6 में से 5 सीटों पर हारी बीजेपी, हार के बाद पूर्व सीएम फडणवीस का आया ये बड़ा बयान.

महाराष्ट्र, 4 दिसम्बर 2020: देश में लगातार सत्ता पर काबिज हो रही भारतीय जनता पार्टी को महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में तगड़ा झटका लगा है। आपको बता दें कि महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में 6 सीटों के लिए चुनाव हुए जिसमें भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को सिर्फ एक ही सीट पर जीत मिली है वहीं 5 सीटों पर एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस के महाविकास आघाडी गठबंधन ने जीत दर्ज की है।

आपको बता दें कि बीजेपी ने चुनाव में 4 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे लेकिन बीजेपी सिर्फ एक सीट जीत सकी है। राज्य में बीजेपी के लिए यह दूसरा बड़ा झटका है क्योंकि पिछले साल नवंबर महीने में बीजेपी से राज्य की सत्ता भी चली गई थी। जिसके बाद शिवसेना ने महाराष्ट्र में भाजपा के बिना सरकार बनाकर पार्टी से रास्ता अलग कर लिया था।

फडणवीस ने कहा चुनाव परिणाम हमारी उम्मीद के मुताबिक नहीं:-

MLC Election

विधान परिषद चुनाव परिणामों में सिर्फ1 सीट जीतने पर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि चुनावी परिणाम हमारी उम्मीद के मुताबिक नहीं आए हैं। हार स्वीकार करते हुए मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि’ महाराष्ट्र विधान परिषद के चुनाव परिणाम को लेकर जो सोचा था वह नहीं हुआ।

हम इन विधान परिषद चुनावों में ज्यादा सीटों की उम्मीद कर रहे थे जबकि हम सिर्फ एक ही सीट जीत सके. हमसे तीनों पार्टियों शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस के महा विकास आघाडी के गठबंधन की ताकत को आपने मैं चूक हो गई।

पवार बोले यह एकता का सबूत है:-

वहीं महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में 6 में से 5 सीट जीतने वाले महाविकास आघाडी की जीत पर महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री का भी बयान सामने आया है। उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि’ विधान परिषद चुनाव में महाविकास अघाडी की जीत ही गठबंधन (शिवसेना, एनसीपी, महाविकास आघाडी) पार्टियों के बीच एकता का सबूत है।

विधान परिषद चुनाव में 5 सीट जीतने के बाद मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने भी पार्टी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि विधान परिषद चुनाव के परिणाम पिछले 1 साल में हमारे और महा विकास आघाडी के द्वारा किए कार्यो का परिणाम है. इन परिणामों को देखकर अब बीजेपी को सच्चाई स्वीकार कर लेनी चाहिए।