VIDEO: मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर को देशभर के बेरोज़गार युवा ‘जुमला दिवस’ मनायेंगे

देश इस समय भीष’ण समस्याओं का सामना कर रहा है. एक तरह जहां कोरोना से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है, वहीं दूसरी तरफ अर्थव्यवस्था गिरने से बेरोजगारी लगातार बढ़ती जा रही है लेकिन इसके बाद भी केंद्र की मोदी सरकार आम लोगों को राहत देने के लिए कोई भी ठोस कदम उठाती नजर नहीं आ रही है. यही वजह है कि बढ़ती बेरोजगारी से परेशान युवाओं ने अब मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल लिया है.

बेरोजगार युवा मोदी सरकार के खिलाफ लगातार अपना विरोध जता रहे है. इसी कड़ी में ताली-थाली और दिया-बाती कार्यक्रम के बाद अब एक और अनोखे तरीके से सरकार का विरोध करने की तैयारी की जा रही है.

युवा हल्ला बोल ने देश भर के बेरोजगार युवाओं और छात्रों ने पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस 17 सितंबर को जुम’ला दिवस के रूप में मनाने की अपील की है. जिसमें युवाओं का उत्साह अभी से देखने को मिलने लगा है. कोरोना संक’ट के बीच युवा अपने घरों से ही डिजिटल प्रदर्शन में हिस्सा लेकर व्यापक तौर पर एकजुटता का संदेश दें रहे है.

युवा हल्ला बोल संयोजक अनुपम ने 17 सितंबर को जुमला दिवस मनाने के सवाल पर कहा कि बड़ी तादात में देश के नौजवान मोदी सरकार के वादों को जुमला मानती है, सत्ता हासिल करने से पहले पीएम मोदी ने युवाओं को करोड़ों रोजगार देने के वादे किये थे लेकिन सत्ता हासिल होते ही रिकॉर्ड तो’ड़ बेरोजगारी दी है.

उन्होंने आगे कहा कि मोदी सरकार ने स्किल इंडिया, मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया से लेकर स्मार्ट सिटी तक कई रोजगार देने के लिए योजनाओं की घोषणा की है लेकिन सभी सिर्फ नारे और घोषणाएं ही साबित हुए. हर हाथ को काम देने का वादा भी जुमला ही साबित हुआ है.

ठीक उसी तरह जैसे पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने का वादा करके पूरी अर्थव्यस्था ही चौपट कर डाली. युवाओं का भरोसा अब मोदी सरकार से उठ चूका है. युवा लगातार प्रदर्शन कर रहे है लेकिन इसके बाद भी सरकार बेरोजगारी की समस्या को गंभीरता से नहीं ले रही है.

उन्होंने आगे कहा कि बेरोज़गार युवाओं ने चीख चीख कर अपनी बात कह रहे हैं. थाली पी’टकर अंधाधुंध निजीकरण से आगाह किया है तो दिया जलाकर उन्हें दिशा भी दिखा रहे है लेकिन सरकार कुछ भी सुनने और मानने को तैयार नहीं लग रही है.

इसलिए अब उनके जन्मदिन पर युवा जुमला दिवस मनाएंगे. बता दें कि सोशल मीडिया पर अभी से 17 सितंबर को जुमला दिवस और राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस मनाने के लिए ट्रेंड कराए जाने लगे है.