इन 10 राज्यों में 80% मुस्लिम आबादी, लेकिन BJP शासित चार राज्यों में एक भी मुस्लिम मंत्री नहीं: ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी ने BJP पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा शासित 4 राज्यों में से एक भी मंत्री मुसलमान नहीं है जबकि 10 सूबों में मुस्लिम आबादी 80% है, ऐसा क्यों? बीजेपी शासित राज्यों में लगातार मुसलमान मंत्रियों की संख्या घटती जा रही है।

दिल्ली: बिहार (Bihar) में हुए ताजा चुनाव में बीजेपी (BJP) के जदयू (JDU) के साथ सरकार बनाते ही सियासत एक बार फिर गर्मा गयी है. दरअसल बिहार चुनाव के दौरान अधिकतर मंत्रियों का चुनाव में भाजपा का ही जोर रहा, ऐसे में हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन औवेसी (Asaduddin Owaisi) ने इंडियन एक्सप्रेस की खबर को शेयर करते हुए लिखा है कि देश के 10 सूबों में से 4 राज्यों की 80 प्रतिशत आबादी तो मुस्लिम है, लेकिन उनमें कोई भी मुसलमान मंत्री नहीं है.

असदुद्दीन औवेसी ने आगे बीजेपी पर निशाना साधते हुए लिखा कि इन सभी राज्यों में भाजपा का शासन है, और 4 राज्य जिनमें कर्नाटक, गुजरात, असम, बिहार तो ऐसे है जिनमें कोई भी मुसलमान मंत्री नहीं है। वहीं भाजपा शासित एक राज्य उतरप्रदेश में एक मात्र मुस्लिम मंत्री मोहसिन राजा है जिनको अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गयी है।

2014 के बाद से बदलती जा रही है ये स्तिथि

owasi 1

देश में लगातार भाजपा सभी राज्यों में काबिज होती जा रही है, ऐसे में ये असदुद्दीन औवेसी का कहना है कि देश में मुसलमान मंत्रियो की स्तिथी में यह परिवर्तन 2014 के बाद देखने को मिला है। आंकड़ो के मुताबिक इन 10 राज्यों में मंत्रियों की कुल संख्या 281 है, और इनमें मुस्लिम मंत्रियों की संख्या 16 है.

वहीं 2014 से पहले इनकी संख्या 34 तक थी। 2014 से पहले गुजरात ही एकमात्र ऐसा राज्य था जिसमें एक भी मुसलमान मंत्री नहीं था. परंतु 2014 के बाद ऐसे राज्यों की संख्या धीरे धीरे बढ़ रही है जिसमें कोई मुसलमान मंत्री नहीं है।

ऐसे में हैदराबाद नगर निगम चुनाव से पहले सांसद ओबेसी ने यह मुद्दा उठाया है। हैदराबाद नगर निगम चुनाव में एआईएमआईएम और बीजेपी के बीच सियासी जंग जारी है। हैदराबाद नगर निगम चुनाव इस बार खास होने जा रहा है।

बीजेपी इस बार फुल तैयारी के साथ इस चुनाव में उतर रही है, बीजेपी के राष्ट्रीय नेता चुनाव प्रचार के लिए पहुँच रहे हैं। ऐसे में ओबेसी का यह सवाल पार्टी कि बीजेपी शासित इन सभी चार राज्यों में कोई भी मुसलमान मंत्री क्यों नहीं हैं?

असदुद्दीन औवेसी का ये सवाल भारतीय जनता पार्टी पर सवाल खड़े कर रहा है। अब देखना होगा कि असदुद्दीन औवेसी के गढ़ माने जाने वाले हैदराबाद में सियासत किधर को जाती दिखाई पड़ती है।