Coronavirus: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 मार्च को देशवासियों से की ‘जनता कर्फ्यू’ का पालन करने की अपील

नई दिल्लीः देश में कोरोना वायरस का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (गुरुवार) रात आठ बजे देश को संबोधित कर कहा- कि हर भारतीय को सतर्क रहने की जरूरत है. प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरा विश्व इस समय संकट के गंभीर दौर से गुजर रहा है. कभी कोई प्राकृतिक संकट आता है तो कोई देश या राज्यों तक सीमित रहता है. यह आपदा दुनिया भर के लोगों को संकट में डाल दिया है।

प्रथम वि’श्व यु’द्ध के समय भी इतनी परेशानी नहीं हुई थी, जितनी अभी कोरोना की वजह से है. पिछले दो महीने से हम कोरोना की खबरे सुन रहे हैं, देशवासियों ने बचने के लिए कोशिश किया है, लेकिन बराबर परेशानी बाद रही है. पीएम ने कहा कि वै’श्वि’क महामा’री कोरोना से नि’श्चिं’त हो जाना सही नहीं है. हमें सजग रहने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने आपसे जब भी जो भी मांगा है, कभी भी देशवासियों ने निराश नहीं किया है. आज फिर में 130 करोड़ देशवासियों से कुछ मांगने आया हूं.प्रधानमंत्री ने कहा कि इसलिए मैं आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन मांगता हूं। यह है जनता कर्फ्यू। यानी जनता के लिए, जनता द्वारा, खुद पर लगाया गया कर्फ्यू।

हर एक देशवासियों को 22 मार्च रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक ‘जनता कर्फ्यू’ का पालन करना है। इस जनता कर्फ्यू के दरमियान कोई भी नागरिक घरों से बाहर नहीं निकलेगा कोई भी देशवासि न मोहल्ले में जाए, न सोसाइटी में जाए। अपने घरों में रहे। लेकिन जो आवश्यक सेवाओं से जुड़े हैं, उन्हें तो जाना ही होगा।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा साथियों 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की सफलता हमें आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार करेंगे। मैं राज्य सरकारों से भी जनता कर्फ्यू का पालन कराने का आग्रह करुंगा। हमारे देश में कई छात्र संगठन हैं, खेल कूद के संगठन हैं, सिविल सोसाइटी हैं। सबसे मैं अनुरोध करुंगा कि अभी से लेकर रविवार तक इस जनता कर्फ्यू का संदेश लोगों तक पहुंचाएं, उन्हें जागरुक करें।

आप हर दिन 10 नए लोगों को फोन कर के इस वैश्विक महामारी के बारे में बताएं, आपको बता दें अभी तक विज्ञान कोरोना म’हामा’री से बचने के लिए कोई उपाय नहीं ढूंढ़ पाया है, और न ही कोई वैक्सीन अभी तक नहीं बन पाई है. दुनिया के जिन देशों में कोरोना का प्रभाव जहां कोरोना का संकट सामान्य बात नहीं है।

इस वैश्विक महामारी को रोकने के लिए एक नागरिक के नाते हम केंद्र और राज्यों के दिशा-निर्देशों का पूरी तरह से पालन करेंगे. आज हमें यह संकल्प लेना होगा कि हम स्वयं संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएगंगे

Leave a Comment