पायलट की इस छोटी सी गलती के चलते CRASH हुआ था विमान, वक्त रहते PILOT कर लेता यह काम तो बच जाती 97 लोगों की जान

हाल ही में पाकिस्तान में एक विमान हादसा हो गया था. माना जा रहा था कि यह हादसा किसी तकनीकी खराबी के चलते हुआ लेकिन अब इस मामले में चालक दल पर सवाल उठ रहे है. आखिर चालक दल कैसे विमान को बिना लैंडिंग गियर के उतार सकता था, जबकि उनके परिष्कृत जेटलाइनर उसे लगातार ऐसा करने से रोक रहे थे. अचानक विमान को नीचे उतारने के कारण एयर-ट्रैफिक कंट्रोलरों नर्वस हो गए थे.

शुक्रवार को पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस जेट के पायलटों ने विमान को लैंडिंग गियर के बिना ही रनवे पर उतार दिया था. इस दौरन विमान के दोनों इंजनों की रफ्तार 327 किलोमीटर प्रति घंटे थी. इसी बीच पायलटों ने लैंडिंग की कोशिश रोक कर वापस आकाश की तरफ उडान भर दी.

लेकिन जल्द ही सूचना प्राप्त हुई की वे नियंत्रण खो देंगे. पायलट एक ही रनवे पर लौटने का प्रयास कर रहे थे इसी बीच एयरबस एसई ए-320 रनवे के पड़ोस में फिसल गया. जिसके चलते विमान में सवार 99 लोगों में से 97 की मौ’त हो गई.

आपको बता दें कि यह विमान लाहौर से कराची की तरफ जा रहा था. इस हादसे में विमान में सवार 99 लोगों में से सिर्फ दो लोग ही बच सके. विमान में मौजूद कुल लोगों में 91 यात्री और 8 क्रू सदस्य शामिल थी.

विमान सुरक्षा सलाहकार जॉन कॉक्स ने इस मामले को लेकर कहा कि यह अविश्वसनीय है कि एयरबस जैसे जेट पर मौजूद चालक दल सभी चेतावनी प्रणाली के बाद भी बिना गियर के विमान को उतारने की कोशिश कर रहे थे. जबकि उन्हें चेकलिस्ट के अलावा जेटलाइनर ने भी लैंडिंग गियर के बिना विमान उतारने का प्रयास नहीं करने की चेतावनी दी.

उन्होंने कहा कि अगर पायलट गियर लगाना भूल जाता है या यह काम नहीं करता है तब भी चेतावनी प्रणाली चालक दल को अलर्ट कर देती है. उन्होंने कहा कि विमान का सिस्टम आपको गियर लगाए बिना जमीन के इतने करीब आने पर कई अलर्ट देता हैं.

यह अभी तक साफ नहीं हुआ है कि दो मिनट में रनवे से लगभग 3,000 फीट वापस ऊपर उठाने के बाद भी दो जेट इंजनों ने काम करना क्यों बंद कर दिया. एक ही समय में दोनों इंजनों का कार्य करना बंद होना अविश्वसनीय है. उन्होंने कहा कि यह संभव है कि अराजकता और भ्रम की स्थिति के चलते पायलट लैंडिंग गियर खोलना भूल गए हो.