ये तस्वीरें शेयर कर शाहीन बाग प्रदर्शन को प्रायोजित कहने वालों को जवाब दे रहे लोग, क्या ये 500 रुपए वाली….

CAA Protest Shaheen Bagh: दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में महिलाएं, बच्चे, बूढ़े, जवान NRC, CAA और NPR के खिलाफ पिछले एक महीने से भी ज्यादा समय से प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी बीच शाहीन बाग में गणतंत्र दिवस के मौके पर करीब 10 लाख से भी ज्यादा लोग एक साथ राष्ट्रगीत जन गण मन गाकर विश्व के किसी भी राष्ट्रगान को एक साथ गाए जाने वाले रिकॉर्ड को तोड़ने की कोशिश की।

बता दें गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली के शाहीन बाग में धरने पर बैठी महिलाओं और प्रदर्शनकारियों ने रैली निकाली और तिरंगा फहराया गया। इस दौरान लाखो की संख्या में लोग इसमें मौजूद हुए। इस रैली की तस्वीरें शेयर कर लोग शाहीन बाग प्रदर्शन को प्रायोजित कहने वालों को जवाब दे रहे हैं। लोग कह रहे हैं, ‘कर लीजिए 500 रुपये देने की कोशिश।

शाहीन बाग में NRC, CAA, NPR के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं.

शाहीन बाग प्रदर्शन में महिलाएं सबसे आगे

एक सोशल मीडिया यूजर सानिया अहमद ने दो तस्वीरें शेयर की है। इस वायरल हो रही तस्वीरों में लाखो की संख्या में लोग दिखाई दें रहे हैं और उनके हाथों में तिरंगा झंडे हैं। सानिया ने लिखा, शाहीन बाग में हर किसी को 500 रुपये देने की कोशिश करें। स्वतंत्र पत्रकार स्मिता शर्मा ने इन तस्वीरों को शेयर करते हुए लिखा।

स्वतंत्र पत्रकार स्मिता शर्मा ने लिखा वाह! यदि अन्ना आंदोलन के एक क्रांति थी, तो आप इसे कब तक एक साजिश के रूप में बताएंगे? गणतंत्र दिवस के अवसर पर शाहीन बाग से दमदार तस्वीरें। वही योगेश मसूरकर @yamasurkar ने लिखा, अन्ना आनंदोलन को उस समय की मेनस्ट्रीम मीडिया से समर्थन मिला।

दुर्भाग्य से आज मीडिया को वेल मैनेज्ड कर लिया गया है इसलिए शाहीन बाग प्रोटेस्ट को ऐसा प्राइम टाइम नहीं मिल रहा है। वही पदमान @CSPadmanabhan7 ने लिखा, मैं प्रार्थना करता हूं कि हमारे लोगों में आंदोलन को उस समय तक बनाए रखने के लिए पर्याप्त शक्ति मिले जब तक कि सुप्रीम कोर्ट ने सीएए को हटाने का फैसला न ले ले।

आपको बता दें दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन को लेकर बीजेपी आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने एक वीडियो शेयर किया था जिसमे उन्होंने दावा किया था कि महिलाओं को प्रदर्शन के लिए 500 रुपये प्रतिदिन दिए जा रहे हैं।

हलाकि अमित मालवीय के इस आरोप के बाद शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने अमित मालवीय के खिलाफ मानहानी का नोटिस भेजा है। नोटिस में कहा गया कि ऐसे झूठे आरोप लगाकर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय समुदाय में प्रदर्शनकारियों को बदनाम किया जा रहा है।

Leave a Comment