VIDEO: PM मोदी के हेलीकॉप्टर से संदिग्ध काले बॉक्स को निकालकर एक निजी इनोवा में रखे जाने का वीडियो वायरल

देश में लोकतंत्र का महापर्व 11 अप्रैल से शुरू हो चूका है. जल्द ही दुसरे चरण के लिए मतदान होने वाले है. लिहाजा चुनावी शोर-गुल तेज होता जा रहा है. बीजेपी इस चुनाव में हिंदुत्व, राष्ट्रवाद और सैनिकों के सहारे लोगों के वोट बटोरने की कोशिशों में जुटी हैं. लेकिन इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है, जो बीजेपी के लिए मुसीबत साबित हो सकता हैं.

दरअसल वायरल वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है कि एक चुनावी रैली करने के लिए कर्नाटक के चित्रदुर्ग में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हेलीकॉप्टर से कथित तौर पर एक बड़े से संदिग्ध बॉक्स को उतारकर वहां पास में ही कड़ी एक निजी इनोवा कार में रखा गया था.

जिसके थोड़ी ही देर बाद बॉक्स को लेकर कार गायब हो गई. कई सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा इस वायरल वीडियो को शेयर करते हुए चुनाव आयोग से तीखे सवाल पूछे जा रहे हैं. कई लोगों का कहना है कि निर्वाचन आयोग को इस मामले को संज्ञान लेना चाहिए.

कांग्रेस ने इसे लेकर पीएम मोदी पर हमला करते हुए चुनाव आयोग से मामले की जांच करने के आग्रह किया है. कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव ने सूबे के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को टैग करते हुए कहा कि कल चित्रदुर्ग में पीएम मोदी के हेलीकॉप्टर से एक रहस्यमयी बॉक्स को उतारा गया था.

इसके बाद इसे एक निजी इनोवा में लोड किया गया. अब इस मामले में चुनाव आयोग को पूछताछ करनी चाहिए कि बॉक्स में क्या था और वाहन किससे संबंधित था. वहीं कांग्रेस से जुड़े श्रीवत्स ने भी ट्वीट करते हुए सवाल उठाया कि कर्नाटक के चित्रदुर्ग में आज पीएम के हेलीकॉप्टर से संदिग्ध बॉक्स को उतारा गया.

इसके बाद वहां पहले से इंतजार कर रही एक इनोवा में ले जाकर बक्से को रख दिया गया. जो बाद में बॉक्स को लेकर चली गई. उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि बॉक्स सुरक्षा प्रोटोकॉल का हिस्सा क्यों नहीं था? पीएम के काफिले का इनोवा हिस्सा क्यों नहीं था? किसकी कार थी?

इसके साथ ही कर्नाटक सरकार में कांग्रेस की सहयोगी जनता दल सेकुलर ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि चुनाव आयोग के अधिकारी पूरे उत्साह के साथ सीएम एचडी कुमारास्वामी की गाड़ी को एक दिन में कई बार चेक करते हैं.

लेकिन चुनाव आयोग को उस संदिग्ध बॉक्से को लेकर चिंता में क्यों नहीं है जो पीएम के हेलिकॉप्टर से निजी कार में रखा गया था? क्या भारतीय चुनाव आयोग के दिशानिर्देश पीएम नरेंद्र मोदी पर लागू नहीं होते है?