राहुल गाँधी के मछुआरे वाले बयान पर PM मोदी ने किया ऐसा पलटवार के राजनैतिक गलियारों में खलबली मच गयी

PM मोदी ने राहुल गाँधी के मछुआरे वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि इनको झूठ बोलने में सिल्वर और गोल्ड मेडिल मिले हुए हैं.

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी अक्सर अपने दिए गए बयानों को लेकर खूब सुर्खियों में रहते हैं और इन बयानों के चलते वे बीजेपी नेताओं के निशाने पर आते रहते हैं। हाल ही में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जब पीएम मोदी ने उनपर तीखा ह’मला बोला है।बता दें राहुल गांधी इन दिनों केरल दौरे पर हैं और इसी दौरान उन्होंने केरल के कोल्लम जिले में मछुआरों को संबोधित करते हुए मछुआरों को समुद्र का किसान बताया।

राहुल गांधी कहते हैं कि “जिस प्रकार किसान जमीन पर खेती करता है उसी तरह मछुआरा समुद्र पर खेती करता इसलिए किसानों की तरह मछुआरों के लिए भी दिल्ली में एक मंत्रालय होना चाहिए जो उनके हितों की रक्षा कर सके। इसलिए पहली चीज जो मुझे करनी है वह यह कि मछुआरों के लिए दिल्ली में एक मंत्रालय हो ताकि वह वहां पर अपनी बात रख सकें।

अब पीएम मोदी ने साधा निशाना

राहुल गांधी के इस बयान के एक दिन बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने पुडुचेरी में एक रैली को संबोधित कर रहे थे और इसी दौरान उन्होंने राहुल गांधी को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि “कांग्रेस नेताओं का झूठ बोलने में कोई सानी नहीं है वह झूठ बोलने में गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल जीत चुके हैं। कांग्रेस नेता यहां पर आते हैं और कहते हैं कि हम सरकार में आए तो मछुआरों के लिए एक अलग मंत्रालय बनाएंगे

लेकिन सच्चाई यह है कि एनडीए सरकार में यह मंत्रालय पहले ही बन चुका है और बीते 2 सालों में ही हमने मछुआरों के लिए बजट में 80 फ़ीसदी की बढ़ोतरी की है और इसी प्रकार पिछली दफा भी अटल जी ने भी अति पिछड़े आदिवासी समुदायों के लिए मंत्रालय बनाया था।

गिरिराज सिंह भी भड़के

राहुल गांधी के इसी बयान पर केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह भड़क उठे उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि “राहुल गांधी खुद संसद में म’त्स्य मंत्रालय से सवाल पूछते हैं और जब उन्हें बिना गुमराह किए जवाब दे दिया जाता है तो भी यह देश भर में घूम-घूम कर लोगों को गुमराह करते हैं यह इनकी सोची समझी साजिश है लोगों को इसके बारे में सोचना चाहिए।

इससे पहले भी राहुल गांधी इसी प्रकार का बयान दे चुके हैं जिस पर केंद्रीय मंत्री किरन रिजिजू ने पलटवार करते हुए कहा था कि राहुल गांधी जिस मंत्रालय की मांग कर रहे हैं वह असल में 2019 में ही बन चुका है।

पुणे (महाराष्ट्र) की रहने वाली 'बुशरा त्यागी' पिछले 5 वर्षों से एक Freelancer न्यूज़ लेखक (Writer) के तौर पर कार्य कर रही हैं। 16 साल की उम्र से ही इन्होंने शायरी, कहानियाँ, कविताएँ और आर्टिकल लिखना शुरू कर दिया था।