PM मोदी के भाई प्रहलाद मोदी ने भाजपा पर साधा निशाना, बोले- जब जयशाह का क्रिकेट में कोई योगदान नहीं फिर बीसीसीआई का सचिव कैसे?

पीएम मोदी के भाई प्रहलाद मोदी ने साधा बीजेपी पर निशाना, बोले क्रिकेट में कोई योगदान नहीं फिर भी जय शाह को कैसे बना दिया बीसीसीआई सचिव

अक्सर राजनीतिक गलियारों में भाई भतीजावाद की बातें खूब सुनने को मिलती है जिसमें भाई भतीजावाद को लेकर लोग राजनेताओं पर जमकर टिप्पणी भी करते हैं। लेकिन हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रहलाद मोदी ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है। जिसमें उन्होंने पार्टी के दोहरे मापदंड को उजागर किया है। आपको बता दें गुजरात में स्थानीय नगर निकाय चुनाव होने वाले हैं।

जिसके चलते पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सी आर पटेल ने एक नई घोषणा की है जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है. पार्टी अध्यक्ष सी आर पटेल ने ऐलान करते हुए कहा कि बीजेपी नेताओं के परिवार के सदस्यों तथा उनके रिश्तेदारों को आगामी नगर निकाय चुनाव में टिकट नहीं मिलेगा।

जय शाह के पास कोई भी डिग्री नहीं फिर बीसीसीआई का सचिव कैसे?

ऐसे में अब प्रहलाद मोदी ने पार्टी अध्यक्ष सी आर पटेल के इस फैसले पर आप’त्ति जताई है. प्रहलाद मोदी ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि “मेरी बेटी को स्थानीय निकाय चुनाव में इसलिए चुनाव नहीं लड़ने दिया जा रहा क्योंकि वो पीएम मोदी की भतीजी हैं जबकि इसके उलट बीजेपी के कई नेताओं के बेटे सांसद और अहम पदों पर बैठे हैं।

बता दें कि पार्टी अध्यक्ष सी आर पटेल की नई घोषणा के बाद अब प्रहलाद मोदी की बेटी सोनल मोदी स्थानीय नगर निकाय चुनाव में हिस्सा नहीं ले सकतीं। सोनल अहमदाबाद के बोदकदेव से चुनाव लड़ना चाहती थीं लेकिन अब वे चुनाव नहीं लड़ सकेंगीं।

राजनाथ सिंह के बेटे सांसद

ऐसे में अब पार्टी के दोहरे मापदंड को उजागर करते हुए पीएम मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी ने बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में बीजेपी पर निशाना साधा है उन्होंने कहा कि अगर राजनाथ सिंह के बेटे सांसद बन सकते हैं, अगर मध्य प्रदेश के कैलाश विजयवर्गीय के बेटे विधायक हो सकते हैं तो मेरी बेटी चुनाव क्यों नहीं लड़ सकती।

यही नहीं प्रहलाद मोदी ने इस दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह के हाल ही में बीसीसीआई सचिव बनाए जाने पर सवाल उठाए उन्होंने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जिनका क्रिकेट में कोई योगदान नहीं है, उनको क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की जिम्मेदारी कैसे दी जा सकती है।

उन्होंने कहा कि जय शाह के पास कोई डिग्री भी नहीं है क्या वे सरकार के लिए उपयोगी हैं ? अगर वे क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के सचिव बन सकते हैं तो पार्टी दो समांतर तरीकों से काम कर रही है जो कि पार्टी के दोहरे मापदंड की तरफ इशारा करते हैं।