VIDEO: बीजेपी नेता छपवा रहा था NCERT की ‘नकली किताबें’, 35 करोड़ का माल बरामद

यूपी के मेरठ जनपद में शुक्रवार को एसटीएफ और पुलिस की टीम ने थाना परतापुर क्षेत्र में एक गोदाम पर छापेमारी की. छापेमारी के दौरान करीब 35 करोड़ रूपये की एनसीईआरटी की किताबें तथा छह प्रिटिंग मशीन बरामद की हैं. बताया जा रहा है कि गोदाम पर करोड़ों की इन किताबों को अवैध तरीके से छाप कर यूपी, उत्तराखंड, हरियाणा, मध्यप्रदेश, दिल्ली-एनसीआर और आसपास के कई राज्यों में भेजी जाती थी.

पुलिस ने इस मामले में छापेमा’री के दौरान करीब एक दर्जन लोगों को हिरासत में लिया है. न्यूज़ एजेंसी पीटीआई (भाषा) की रिपोर्ट के मुताबिक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय साहनी ने बताया है कि सुशांत सिटी के रहने वाले सचिन गुप्ता का परतापुर थाना क्षेत्र में गगोल रोड पर किताबों का गोदाम स्थित हैं.

साहनी ने बताया कि इस गोदाम में अवैध तरीके से एनसीईआरटी (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद) की किताबों की छपाई की जाती थी और इन किताबों की आसपास के कई राज्यों में आपूर्ति की जाती थी. पुलिस ने सुचना मिलने पर एसटीएफ टीम के साथ संयुक्त कार्रवाई करते हुए छपा डाला.

साहनी ने कहा कि एक दर्जन लोगों को छा’पेमारी के दौरान मौके से हिरासत में लिया गया है. इसके साथ ही गोदाम को सील कर दिया गया हैं. किताबें प्रिंट करने वाली प्रिंटिंग मशीनों को भी सील किया गया हैं. टीम ने मौके से लगभग 35 करोड़ रुपये की एनसीईआरटी की किताबें भी जब्त की हैं.

साहनी ने कहा कि यह किताबें दिल्ली और उत्तराखंड समेत कई राज्यों में बेची जाती थी. वहीं मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मामले की जांच को आगे बढ़ाने के लिए यूपी एसटीएफ द्वारा उत्तराखंड एसटीएफ से संपर्क साधा गया हैं. एसटीएफ उत्तराखंड में किताबों की आवक और सप्लाई पर जानकारी जुटाने में लगी हुई हैं.

डीआईजी एसटीएफ रिद्धिम अग्रवाल ने बताया कि शाम तक उत्तराखंड एसटीएफ को इस मामले को लेकर कुछ अहम जानकारी हासिल हो सकती हैं.

जब एसटीएफ ने प्रिटिंग प्रेस पर छपा मा’रा तो उस दौरान काम चल रहा था. सभी प्रिंटिंग मशीनें चालू थीं. इस दौरान किताबों की छपाई और उनकी बाइंडिंग का काम चल रहा था. प्रिटिंग प्रेस में काम कर रहे एक दर्जन लोगों को एसटीएफ ने पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया हैं इनमें कुछ महिलाएं भी है शामिल हैं.

साभार- जनता का रिपोर्टर