दुबई की राजकुमारी ओवैसी भाइयों से हुयीं प्रभावित, ट्विटर पर फॉलो करने के बाद कही बड़ी बात

नई दिल्ली: संयुक्त अरब अमीरात की राजकुमारी हेंद अल कासिमी इन दिनों सोशल मीडिया पर खासी चर्चाओं में हैं. दरअसल, सोशल मीडिया प्लेटफार्म दुनिया का सबसे शक्तिशाली प्लेटफार्म बनता जारहा है. और यहां आवाज उठाना और उसको दुनियाभरा तक पहुंचाने का सबसे आसान रास्ता है, इसी कारण दुबई की राजकुमारी अपने ट्वीट्स से लगातार सोशल मीडिया से इस्लामोफोबिक के खिलाफ आवाज रही है।

बता दें कोरोना वायरस और तबलीगी जमात के नाम पर मुसलमानों पर अ’त्याचा’र देखने को मिल रहा है. कई दूरदराज के इलाकों में मुसलमानों का बहिष्कार किया जा रहा है. वही बीजेपी शासित राज्यों में तो खुल्मलखुल्ला मुसलमानों पर जुल्म ढा रहे हैं. गंभीर बात ये है कि बीजेपी के समर्थकों द्वारा मुसलमानों पर हो रहे इस अत्याचार के खिलाफ विपक्ष भी आवाज नहीं उठा रहा है।

इसी मामले को लेकर संयुक्त अरब अमिरात (यूएई) की शाही परिवार की सदस्य राजकुमारी हेंद अल कासिमी भारतीय मुसलमानों के लिए एक मसीहा के रूप में सामने आयी हैं. और उन्होंने मुसलमानों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ विपक्ष की भूमिका निभाते हुए बुलंद आवाज उठाई। जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ये कहना पड़ा कि कोरोना जाति या धर्म को देख कर शिकार नहीं बनाता है।

वही कुछ दिन पहले राजकुमारी हेंद अल कासिमी ने ट्वीटर पर ओवैसी बन्धुओं के बारे में सवाल करते हुए पूछा है कि Who are the Owaisi brothers ? जिसके बाद से सैकड़ों यूजर्स राजकुमारी को ओवैसी के बारे में बताया है और उन्हें मज़लूम और बेबस लोगो की निडर आवाज़ बताया।

ओवैसी के बारे में राजकुमारी द्वारा दिखाई गई रूचि सोशल मीडिया पर जमकर चर्चा का विषय बना हुआ है. जिसके बाद उन्होंने असदुद्दीन ओवैसी के बारे में गूगल किया और ट्विटर पर उनको फालो किया।

आपको बता दें की राजकुमारी हेंद UAE में ही पैदा हुईं हैं और उनके पिता डॉक्टर जबकि मां स्कूल में प्रिंसिपल थीं. गांधीजी के नाम से राजकुमारी ने ट्विटर पर जो कहा वो असल में उनके नहीं मशहूर फिल्म गांधी का डायलॉग है. फिल्म के बाद ये डायलॉग गांधीजी की कही मशहूर बात के रूप में मशहूर हो गया।

Leave a Comment