सरकारी सिस्टम से हारा पुलवामा श’हीद का परिवार दी चेताव’नी, कहा- सरकार साल भर से नहीं कर रही…

प्रयागराजः पिछले साल 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में हुए आ’तंकी ह’मले से देश भर में को’हराम मच गया था। आज का दिन पुलवामा ह’मले की वजह से हमारे देश के लिए किसी काले दिन से कम नहीं है। आज ही के दिन जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए ह’मले में 40 वीर जवान श’हीद हो गए थे। इस ह’मले के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान के खिलाफ एयर स्ट्रा’इक की तो पूरा देश राष्ट्रवाद के बु’खार में ज’कड गया था।

वही आज पुलवामा की बरसी है और ज‍िन्होंने देश के ल‍िए कु’र्बानी दी. इस ह’मले में चालीस जवान श’हीद हुए थे आज उनका पर‍िवार क‍िस हाल में है. सरकार और कई संगठनों ने श’हीद के पर‍िवारों से जो वादे क‍िए थे, उनमें से क‍ितने पूरे हुए, और क‍ितने स‍िर्फ वादे ही साब‍ित हुए।

सरकार ने श’हीद के परिवार से किये थे कई वादे

बता दें पुलवामा ह’मला चुनावी मुद्दा भी बना था और इसने चुनाव में ज़बरदस्त असर भी डाला था. ह’मले में शहीद हुए जवानों को लेकर उस वक्त बड़ी-बड़ी घोषणाएं की गईं थीं, शहीदो को परिवार से तमाम वायदे किये गए थे, लेकिन जवानों की श’हादत के नाम पर वोट लेने के बाद सरकार इन वायदों को भूल गई।

दरअसल प्रयागराज के श’हीद महेश यादव के परिवार को आज तक न तो पेंशन मिली, न सरकारी नौकरी. श’हीद के सम्मान में न तो कोई मूर्ति लगी, न सड़क बनी और न ही स्कूल खुला. श’हीद के बच्चे अब हजारों रूपये की फीस चुकता कर पढ़ाई करने को मजबूर हैं।

बरसी के मौके पर महेश के परिवार वालों को एक तरफ उनके न होने का ग़म है और दूसरी तरफ सरकारी सिस्टम की वादाखिलाफी और उसकी बेरुखी का ज़बरदस्त मलाल भी. महेश की शहादत के बाद उनके पिता परिवार के दूसरे बच्चों को भी देश की सेवा के लिए फ़ौज में भेजने का जो एलान कर रहे थे, नेताओं और अफसरों के यहां चक्कर लगाने के बाद मायूस होकर अब घर बैठ चुके हैं।

श’हीद के परिजन अब लखनऊ में अनशन पर बैठने वाले हैं. पुलवामा ह’मले की बरसी पर श’हीदों के प्रति लापरवाह सिस्टम को आइना दिखाने वाली यह खास रिपोर्ट चौंकाने वाली भी है और साथ ही सोचने वाली भी।

वही श’हीद के पिता राजकुमार यादव और छोटे भाई अमरेश के मुताबिक़ तेरहवीं के बाद आज तक न तो कोई नेता उनके घर झांकने पहुंचा और न ही कोई अफ़सर।

तमाम ज़िम्मेदार लोगों के घरों और दफ्तरों के उन्होंने एक साल में खूब चक्कर भी लगाए, लेकिन न तो कोई मिलता नहीं है और मिलता भी है तो अपना पल्ला झाड़ लेता है।

Leave a Comment