बिहार चुनाव: मुश्किल में तेजस्वी और तेजप्रताप, दलित नेता मामले में FIR दर्ज, हो सकती है गिरफ़्तारी?

बिहार चुनाव: मुश्किल में तेजस्वी और तेजप्रताप, दलित नेता मामले में FIR दर्ज, हो सकती है गिरफ़्तारी?

बिहार में जल्द ही विधानसभा चुनावों के लिए पहले चरण का मतदान होने वाला है लेकिन उससे पहले राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता और सूबे में सीएम पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव और उनके बड़े भाई  तेजप्रताप यादव मुश्किलों में घिरते हुए नजर आ रहे है. खबरों के अनुसार पूर्णिया में दलित नेता की ह#त्या के मामले में तेजस्वी और तेजप्रताप समेत 6 लोगों के खिलाफ नामजद प्रा’थमि’की दर्ज की गई है.

आपको बता दें कि रविवार सुबह केहाट थाना इलाके में नकाबपो’श अ’परा’धि’यों द्वारा दलित नेता शक्ति मालिक को उनके ही घर में घुसकर गो#ली मा#र कर ह#त्या कर दी. इस मामले में पुलिस अधीक्षक विशाल श’र्मा ने बताया कि तेजस्वी और ते’जप्रता’प यादव समेत कुछ 6 लोगों के खि’ला’फ के’हाट थाने में एफआईआर दर्ज की गई है.

केहाट थानाध्यक्ष सुनील कुमार मंडल ने कहा कि मृ#त’क की पत्नी खुशुबू देवी के बयान के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई है. जिसमें सूबे के पूर्व उपमुख्यमं’त्री तेजस्वी यादव, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के नाम भी शामिल है.

इसके आलावा आरजेडी एससी एसटी प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष अनिल कुमार साधू पासवान मनोज सुनीता और कालो पासवान के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि मलिक की पत्नी ने इन आरो’पि’यों पर राजनीतिक साजिश के तहत अपने पति की ह#त्या करने का आरोप लगाया है.

रविवार तड़के सुबह 3 नकाबपोश अप’राधि’यों द्वारा शक्ति मलिक के घर में घुसकर उन पर गो#लि’यां ब’रसा’ई गई और फिर वहां से फरार होने में सफल रहे. मलिक की पत्नी ने पुलिस को जानकारी दी है कि आरजेडी से निकाले जाने के बाद उनके पति एक निदर्ली’य उम्मीदवार के तौर पर चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी कर रहे थे.

हाल ही में बिहार की प्रमुख विपक्षी पार्टी आरजेडी ने मलिक को नि’ष्का’सित कर दिया था जिसके चलते वो अपने पड़ोसी जिले अररिया के रानीगंज विधानसभा से चुनाव लड़ने की तैयारी में लगे हुए थे. इस माम’ले को लेकर सियासी ग’लिया’रों में हलचल उठने लगी है.

साभार- जनता का रिपोर्टर