ट्रंप ने दी भारत को धमकी तो राहुल गांधी ने दिया करारा जवाब

अमेरिका के राष्ट्रपति हैं डोनल्ड ट्रंप. भारत के मोदी भक्तों के लिए वो भगवान तो नहीं लेकिन भगवान से कम भी नहीं. अब इस ट्रंप ने मोदी भक्तों की दुनिया हिला डाली है, अब मारे शर्म के भक्तों को समझ नहीं आ रहा कि कहें तो कहें क्या और करें तो करे क्या अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की धमकी का कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बड़े ही प्यार से लेकिन जोरदार जवाब दिया है.

सबसे पहले आइए यह जानते हैं कि ट्रंप ने भारत को किस बात के लिए धमकाया है. ट्रंप ने भारत को देख लेने की धमकी दी है. वह ट्रंप, जिसके लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की तिजोरी के पैसे को जी खोल कर लुटाया और मूरख भक्त इसे मास्टर स्ट्रोक बता कर लहालोट हुए जा रहे थें.

मुझे चाहिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा

कोरोना की मार झेल रहे अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने इशारों ही इशारों में भारत को धमकाते हुए कहा था कि अगर भारत ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा पर से प्रतिबंध नहीं हटाया तो हम जवाबी कार्रवाई कर सकते हैं. मालूम हो कि इसी हाइड्रॉक्सीक्लोरोक््वीन दवा से कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज हो रहा है. पहले ने ट्रंप ने इस दवा के लिए भारत से मदद की अपील की थी लेकिन अब वो इसके लिए भारत को धमका रहे हैं.

राहुल गांधी ने दिया जोरदार जवाब

ट्रंप की इस धमकी पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड सांसद राहुल गांधी ने करारा जवाब दिया है. ट्रंप की जवाबी कार्रवाई वाले बयान पर राहुल ने कहा कि हमें दूसरे देशों की मदद जरुर करनी चाहिए लेकिन सबसे पहले ये दवाएं भारतीय नागरिकों के लिए पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहना चाहिए. ट्रंप को निशाना बनाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि मित्रता का मतलब जवाबी कार्रवाई नहीं होती. मित्रता में बदले की भावना नहीं होती.

मालूम हो कि भारत में कोरोना वायरस के खतरे के बारे में सबसे पहले राहुल गांधी ने सरकार को अवगत कराया था, हालांकि उस वक्त केंद्र सरकार ने राहुल गांधी की बात को महज अफवाह बताया था और मीडिया ने भी राहुल गांधी की बातों को तवज्जो नहीं दिया था.

आज पूरा देश कोरोना वायरस की महामारी झेल रहा है. जिस वक्त राहुल गांधी ने सरकार को चेताया था, अगर उसी वक्त उनकी बातें मान ली गई होती तो आज भारत में कोरोना का कोई खास असर देखने को नहीं मिल पाता.

Leave a Comment