राहुल गांधी के साथ 'पुलिसिया बदसलूकी' को लेकर भड़क उठे शिवसेना नेता संजय राउत

राहुल गांधी के साथ ‘पुलिसिया बदसलूकी’ को लेकर भड़क उठे शिवसेना नेता संजय राउत

गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपनी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ यूपी के हाथरस की सामूहिक दु’ष्क’र्म पी’ड़ि’ता के परिवार से मिलने निकले थे. लेकिन यूपी पुलिस ने राहुल और उनकी बहन के काफिले को यमुना एक्सप्रसवे पर रोक लिया गया. इसके बाद दोनों नेताओं ने पैदल चलना शुरू कर दिया. इस दौरान पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच जमकर धक्कामुक्की भी हुई.

राहुल का आरोप है कि इस दौरान पुलिस ने उन पर ला’ठीचा’र्ज किया. इतना ही नहीं पुलिस ने उन्हें धक्का देकर जमीन पर गिरा दिया. राहुल गांधी के साथ हुए इस दुर्व्यवहार को लेकर कांग्रेस में काफी गु’स्सा देखने को मिल रहा है.

इसी बीच अब शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि इसका कोई ही समर्थन नहीं कर सकते है. उन्होंने कहा कि राहुल जी एक राष्ट्रीय नेता हैं. हमारे कांग्रेस पार्टी के साथ मतभेद हो सकते हैं लेकिन कोई भी उनके साथ पुलिस द्वारा किये गए व्यवहार का समर्थन नहीं कर सकता हैं.

उन्होंने आगे कहा कि उनका कॉलर पकड़ा गया और उन्हें धक्का देकर जमीन पर गिरा दिया गया. यह देश के लोकतंत्र के लिए एक तरह से सामूहिक दु’ष्क’र्म हैं.

आपको बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इसे लेकर कहा कि अभी-अभी उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा मुझे धक्का दिया गया और मुझ पर लाठीचार्ज किया गया और मुझे जमीन पर फेंक दिया गया. हमारे कार्यकर्ताओं के साथ भी धक्का-मुक्की हुई.

कहा था, ‘अभी-अभी पुलिस ने मुझे धक्का दिया, मुझ पर लाठीचार्ज किया गया और मुझे जमीन पर फेंक दिया गया. मैं यूपी सरकार से पूछना चाहता हूं क्या इस देश में सिर्फ नरेंद्र मोदी जी ही चल सकते हैं? एक सामान्य व्यक्ति नहीं चल सकता हैं? हमारा काफीला रोका गया इसलिए हमने पैदल चलना शुरू किया था.

बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर एफआईआर दायर कराई गई है. शुक्रवार को महात्मा गांधी की 151वीं जयंती के मौके पर केंद्र सरकार पर हम’ला करते हुए राहुल ने कहा कि मैं दुनिया में किसी से नहीं ड’रूंगा. मैं किसी के अन्याय के सामने नहीं झुकूंगा, मैं अस’त्य को सत्य से जीतूं और अस’त्य का विरोध करते हुए मैं सभी क’ष्टों को सह सकूं. गांधी जयंती की शुभकामनाएं.

साभार- पत्रिका