पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने थामा कांग्रेस का हाथ, सिर्फ 22 साल की उम्र में गुजरात को हिला देने वाले हार्दिक यहाँ से…

लोकसभा चुनाव की जंग के ऐलान के बाद से ही नेताओं ने अपने पाले संभालने शुरू कर दिए है. अपना टिकट काटने की संभावनाओं, रिश्तेदारों को टिकट दिलाने और ऐसे कई कारणों के चलते राजनेता दल बदलने में लगे हुए है. वहीं कई नेता पार्टियों के थमन थम कर मैदान में उतरने की तैयारी भी कर रहे है. गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने भी लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी को ज्वाइन करने का मन बना लिया था. कयास लगाए जा रहे थे कि वह कांग्रेस ज्वाइन कर सकते है और मंगलवार को कुछ ऐसा हुआ भी.

तमाम कयासों के बीच बीच गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कांग्रेस का थमन थम लिया है. 12 मार्च मंगलवार को आधिकारिक तौर पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस में शामिल हो गए.

Image Source: Google

आपको बता दें कि हार्दिक को अहमदाबाद में आयोजित कांग्रेस की एक रैली के दौरान पार्टी में शामिल किया गया है. दो दिन पहले ही हार्दिक ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से खुद ट्वीट करके राजनैतिक पार्टी को ज्वाइन करने की जानकारी दी थी. बता दें कि हार्दिक, पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पास) के संयोजक हैं.

बताया जा रहा है कि इस समिति से जुड़े कई बड़े नेता भी कांग्रेस में शामिल होने वाले है. वहीं इससे पहले हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर लिखा था कि देश और समाज की सेवा के मकसद से अपने इरादों को मूर्तरूप देने के लिए मैंने 12 मार्च को श्री राहुल गांधी और अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में इंडियन नेशनल कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया है.

Image Source: Google

पाटीदार नेता ने एक अन्य ट्वीट में कहा था कि मैं यह भी कहना चाहता हूं कि यदि कोई कानूनी अड़चन नहीं आई और कांग्रेस पार्टी ने मुझे चुनाव में उतारने का फैसला किया तो मैं पार्टी के फैसले का पालन करूंगा और चुनाव लंडूगा. मैं भारत के 125 करोड़ नागरिकों की सेवा करने के लिए यह कदम उठा रहा हूं.

इससे पहले राजद्रोह के आरोपों से घिरे और जमानत पर बाहर चल रहे हार्दिक पटेल ने घोषणा की थी कि वह गुजरात से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे. पास की कोर समिति की सदस्य गीता ने कहा कि हार्दिक अमरेली मेहसाणा या जामनगर सीट से चुनाव लड़ सकते हैं लेकिन सीट और टिकट को लेकर पार्टी ही अंतिम फैसला करेगी.