कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी के निधन पर अलका लांबा बोलीं- गोदी मीडिया की डिबेट में प्रवक्ता न भेजने का फैसला जारी….

कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता और प्रवक्ता राजीव त्यागी के आकस्मिक नि’ध’न से पूरा देश स्तब्ध रह गया है. बुधवार को एक निजी न्यूज़ चैनल के लाइव डिबेट शो में हिस्सा लेने के कुछ ही मिनट बाद राजीव बेहोश हो गए थे. जिसके बाद जब उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया तो वहां उन्हें मृ’त घोषित कर दिया गया. देर शाम राजीव त्यागी के दुनिया को अलविदा कह गए. सोशल मीडिया पर लोग उन्हें श्रद्धांजलि देने लगे और उन्हें याद करने लगे.

कांग्रेस के दिग्गज नेताओं से लेकर कई नमी हस्तियों ने भी उनकी मौ’त पर आश्चर्य जाहिर करते हुए शोक प्रकट किया. वहीं कई यूजर्स त्‍यागी के न्यूज़ चैनल आजतक पर हुई आखिरी डिबेट के वीडियो को शेयर कर रहे है. इस वीडियो को शेयर करते हुए लोग न्यूज़ डिबेट पर सवाल उठा रहे हैं.

इसी बीच कांग्रेस की दिग्गज नेता और पूर्व विधायक अलका लांबा ने भी राजीव त्यागी के नि’धन पर शोक व्यक्त किया है. इसके साथ ही उन्होंने भी इस अनहोनी के लिए डिबेट को जिम्मेदार ठहराया है. इसके साथ ही लांबा ने कांग्रेस द्वारा नफरत भरी डिबेट में प्रवक्ता ना भेजने वाले फैसले को सही कहा हैं.

कांग्रेस की पूर्व विधायक अलका लांबा ने ट्वीट करके कहा कि आज एक बार फिर से महसूस हो रहा है कि कांग्रेस का फ़ैसला अपने प्रवक्ताओं को उ’त्ते’जित-हिं’सक-गोदी मीडिया की एक तरफ़ा डिबेट में ना भेजने का एक दम सही था. अगर फ़ैसला ज़ारी रहता तो शायद आज हमें इतनी बड़ी क़ीमत ना चुकानी पड़ती. RIP राजीव त्यागी.

इसके बाद अलका लांबा ने एक और ट्वीट किया जिसमे उन्होंने अपने अनुभव शेयर करते हुए कहा कि पार्टी ने अभी हाल ही में मुझे कुछ टीवी डिबेट्स में शामिल होने के लिए कहा गया था.

उन्होंने आगे लिखा कि जिसके बाद मैंने हिस्सा भी लिया लेकिन मेरा दिल जानता है कि मैं ना चाह कर भी यह सब कर रही थी क्योंकि पार्टी का आदेश हमारे सर माथे होता हैं, कारण आज सभी के सामने हैं- बहस का तेजी से गिरता स्तर, व्यक्तिगत टिप्पणियां और चीखना चिल्लाना चल रहा है डिबेट के नाम पर.