VIDEO: धौलपुर पंचायत चुनाव हारने पर अल्पसंख्यकों की 20 दुकानों को किया आ#ग के हवाले

VIDEO: धौलपुर पंचायत चुनाव हारने पर अल्पसंख्यकों की 20 दुकानों को किया आ#ग के हवाले

राजस्थान में जल्द ही पंचायत चुनाव चल रही हैं, ऐसे में इस चुनावी दौर में कई छुटपुट घटनाएँ लगातार सामने आ रही हैं. इन्हीं छुटपुट घट’ना’ओं के बीच एक बड़ी घट’ना धौलपुर जिले से सामने आई है. जिले में चुना’व हा’रे एक सरपंच पद के प्रत्याशी के गुस्साए परिजनों ने अपना अपा खो दिया और अल्प’संख्य’कों की डेढ़ दर्जन दुकानों को आग के हवाले कर दिया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में अभी तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 5 अक्टुबर को रात करीब 1 बजे धौलपुर जिले के सैपऊ कस्बे के बसेड़ी तिराहे पर स्थित कब्रि’स्ता’न की दुकानों में अचानक आ’ग पक’ड़ जिसके चलते करीब डेढ़ दर्जन दुकानें ज’लकर पूरी तरह राख में बदल गई. खबरों के अनुसार दुकानों में रखा लाखों का सामान भी ज#लकर राख हो चूका है.

मीडिया को मिली अब तक की जानकारी के मुताबिक जिले में 3 अक्टूबर 2020 को हुए सरपंच के चुनाव में पूर्व सरपंच के पति जितेंद्र परमार को एक हजार से भी अधिक वोटों से करारी हार का सामना करना पड़ा.

हा’र गु’स्साए प्रत्याशी जितेंद्र परमार के परिवार वालों ने इस हार का जिम्मेदार समुदाय विशेष के लोगों को मानते हुए कुछ लोगों द्वारा 5 अक्टूबर की शाम क’ब्रिस्ता’न की दुकानों को आ’ग लगाने कि धम’की दी गई.

पी’ड़ि’तों का आरोप है कि इसी रात प्रत्याशी जितेंद्र परमार की हार से बौखलाए परिजनों ने देर रात दुकानों को आ#ग के हवा’ले कर दिया जिससे लाखों का माल ज’लकर रख हो गया.

इस मामले में पी’ड़ि’त परिवारों द्वारा करीब आधा दर्जन लोगों के खि’लाफ नामजद आगजनी का केस दर्ज कराया गया है. पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए हरेंद्र, नारद, नारायण सिंह, छोटू, र’व्वा आदि के खिलाफ जाँच प्रक्रिया शुरू कर दी है.

मुस्लिम समुदाय के लोगों और पी’ड़ि’त परिवारों द्वारा धौलपुर जिला कलेक्टर से भी इस मामले में दो’षि’यों पर कठो’र कार्रवाई की जा#ने की गुहार लगाई गई है. साथ ही गरीब दुकानदारों के लिए उचित मुआवजा मु’हैया कराने की मांग भी की गई है.

बताया जा रहा है की बाड़ी नगर पालिका के चेयरमैन इरफान अहमद ने कहा की सरपंच चुनाव में करारी मात खाने वाले प्रत्याशी के परिजनों ने हार की  बौ’खलाह’ट के चलते मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाया है. यह सभी गरीब दुकानदार थी जो अस्थाई दुकानें चला कर अपने परिवारों का पे’ट पाल रहे थे.

इसके साथ ही उन्होंने बताया की हमने जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर मामले में सख्त कार्रवाई और मुआवजे कि मांग की गई है. वहीं पुलिस ने बढ़ते तनाव को देखते हुए जिले में भा’री पुलिस बल तैनात कर दिया है. आरो’पी पी’ड़ि’तों जी को ध#म’का कर मुकद’मा वापस देने का दबा’व भी डाल रहे हैं.

साभार- नवभारत टाइम्स