VIDEO: पत्रकार सुशांत सिन्हा ने रविश के बारे में फैलाया झूठा वीडियो, रवीश कुमार बोले- ये आई टी सेल की....

VIDEO: पत्रकार सुशांत सिन्हा ने रविश के बारे में फैलाया झूठा वीडियो, रवीश कुमार बोले- ये आई टी सेल की….

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा हैं. इसे मध्यप्रदेश के जबलपुर से बीजेपी विधायक इंदु तिवारी ने शेयर करते हुए दावा किया कि वीडियो में नजर आ रहे सख्स पत्रकार रवीश कुमार है. उन्होंने लिखा कि इस मसीहा पत्रकार को पहचानते हैं? यह दुनिया को पत्रकारिता पर ज्ञान देने की खान हैं. आजकल की पत्रकारिता इन्हें मजाक लगती हैं. कैदें हैं रविश कुमार..

खुद को गूगल द्वारा सर्टिफ़ाइड फ़ैक्ट-चेकर बताने वाले पत्रकार सुशांत सिन्हा ने भी 19 सेकंड के इस वीडियो को ट्वीट किया. हालांकि उन्होंने बिना नाम लिए लिखा कि इस मसीहा पत्रकार को पहचानते हैं? (Hint: यह पत्रकार दुनिया को पत्रकारिता पर ज्ञान देने की खान हैं).

इसके आलावा इस वीडियो को रवीश का वीडियो बताते हुए और भी कई प्रमुख ट्विटर हैंडल्स से शेयर किया गया है. इसके साथ ही इसे सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म जैसे फेसबुक पर भी वायरल किया जा रहा हैं.

फ़ैक्ट-चेक

वायरल हो रहे इस वीडियो की पड़ताल करने के बाद अल्ड न्यूज़ ने बताया कि यह वीडियो अगस्त 2013 में NDTV ने एक ब्लूपर्स वीडियो यूट्यूब पर अपलोड किया था. जिसमें बताया गया है कि यह वीडियो 2006 का है. इसी 3 मिनट के वीडियो से वो हिस्सा लिए गया हैं जिसे अभी रवीश कुमार बताकर शेयर किया जा रहा है.

गौर से देखने पर पता चलता हैं कि माइक के साथ लेटकर रिपोर्टिंग कर रहे व्यक्ति रवीश कुमार नहीं बल्कि जम्मू-कश्मीर के पत्रकार फ़याज़ बुख़ारी हैं. नीचे दी गई यह तस्वीर देखिए और इनके हेयर स्टाइल और नाक पर गौर किया जाए तो सब कुछ साफ हो जाएगा.

ऑल्ट न्यूज़ ने फ़याज़ बुखारी से बात की तो उन्होंने बताया कि वीडियो में नजर आ रहे शख्स वहीं हैं. यह मई 2006 की बात हैं जब कांग्रेस की एक रैली अचानक फिदायीन ह’म’ले के निशा’ने पर आ रही थी. इस रैली के ख’त्म होने के बाद मैं लाइव कर रहा था तभी अचानक गोलाबारी होने लगी और मैं उस समय बिना कवर के लाइव कर रहा था.

उन्होंने बताया कि कैमरा वालों ने कवर ले लिया था. लेकिन मैं अकेला ही था जो गोलाबारी की चपेट में आ सकता था इसलिए मैं नीचे झुका और खुद को बचाने के लिए लुढ़का लगा ताकि बाकि कैमरा वालों की तरह मैं भी गो’लाबा’री से बच सकूं.

आपको बता दें कि इस गो’लीबा’री के दौरान 7 लोगों की मौ’त हो गई थी जबकि 20 लोग घायल हुए थे. इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे पत्रकार और कैमरामैन खुद को गो’लाबा’री के बीच बचाने की कोशिश करते हुए रिपोर्टिंग कर रहे हैं.

इस वीडियो में एक कैमरा वहीं हैं जो वायरल वीडियो में नजर आ रहा हैं. यह वीडियो एक पत्रकार द्वारा खुद को बचाने का प्रयास हैं जिसे गलत तरीके और गलत इरादों के साथ लोगों ने शेयर किया हैं ताकि रवीश कुमार को ट्रोल किया जा सके.

साभार- ऑल्ट न्यूज़