विधानसभा में बोले मुख्यमंत्री योगी, कहा- ढाई साल का बच्चा टोपी पहने व्यक्ति को समझता है गुं’डा

लाल टोपी, नीली टोपी, हरी टोपी, पीली टोपी कोई हमारी विधायिका को ड्रामा कंपनी ना मान ले- विधानसभा में बोले सीएम योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने अजीबोगरीब बयानों के लिए अक्सर चर्चा में रहते हैं और इससे भी ऊपर अगर थोड़ी बात करें तो वे अपने अजीबोगरीब फैसलों की वजह से ज्यादा चर्चा में रहते हैं। और ऐसा ही एक दृश्य बीते बुधवार सदन में देखने को मिला जो कि अब जमकर वायरल हो रहा है।
दरअसल इस समय उत्तर प्रदेश सदन में बजट सत्र चल रहा है।

ऐसे में बजट सत्र से 1 दिन पहले राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का संयुक्त सदन में अभिभाषण हुआ। लेकिन राज्यपाल के अभिभाषण का कई विपक्षी पार्टियों ने विरोध किया और सदन से ब’हिर्गम’न कर गए जिसमें समाजवादी पार्टी, बहुजन समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पार्टी के सदस्य प्रमुखता से थे। ऐसे में अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तमाम पार्टियों के नेताओं पर निशाना साधा है।

लाल, नीली टोपी कोई हमारी विधायिका को ड्रामा कंपनी ना मान ले

बता दें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सदन में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के अभिभाषण पर चर्चा कर रहे थे इस दौरान उन्होंने विपक्षी पार्टियों के नेताओं पर जमकर ह’मला बोला उन्होंने अभिभाषण के दौरान पार्टी नेताओं के ब’हिर्ग’मन पर कहा कि “वे एक सं’वैधा’निक प्रमुख होने के साथ-साथ एक महिला भी हैं ऐसे में कम से कम महिला होने के नाते तो उनका सम्मान कर लेते।

 

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि कोई हमारी विधायिका को ड्रामा कंपनी ना मान ले यहां कोई लाल टोपी, कोई नीली टोपी ,कोई पीली टोपी, कोई हरी टोपी पहनकर आ गया है यह एक नई परिपाटी शुरू हो गई है ऐसा तो कभी नहीं होता था, ऐसा तो हम सिर्फ ड्रामा पार्टी में देखते थे। बता दें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस तंज के बाद सदन में लोग जमकर ठहाका लगाने लगे।

ढाई साल का बच्चा भी टोपी वाले को गुं#डा समझता है

सदन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यहां भी रुकने वाले नहीं थे उन्होंने आगे कहा कि “मैं एक बार बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूल गया था वहां एक बच्चे को अन्नप्राशन कराने के दौरान कुछ पार्टी के लोगों को विरोध करने पहुंच गए और उन सभी लोगों ने टोपी पहनी हुई थी जब ढाई साल के बच्चे ने यह देखा तो वह अपनी मम्मी से कहने लगा कि मम्मी देखो गुं#डा गुं#डा…

अब आप देखिए एक दो ढाई साल का बच्चा भी टोपी पहने हुए लोगों को गुं#डा समझता है और यह धारणा अब बन चुकी है। हालांकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोई भी नेता इसे अपने ऊपर व्यक्तिगत आक्षेप ना समझे।

उन्होंने आगे कहा कि मैं नेता प्रतिपक्ष से यह अपील करना चाहूंगा कि अगर आप सदन में पगड़ी पहन कर आते हैं या गांव का साफा पहन कर आते हैं तो ज्यादा अच्छा लगता।

पुणे (महाराष्ट्र) की रहने वाली 'बुशरा त्यागी' पिछले 5 वर्षों से एक Freelancer न्यूज़ लेखक (Writer) के तौर पर कार्य कर रही हैं। 16 साल की उम्र से ही इन्होंने शायरी, कहानियाँ, कविताएँ और आर्टिकल लिखना शुरू कर दिया था।