कांग्रेस नेता के स्वागत के लिए केंद्र की तरफ से जो रेड कारपेट और बड़े-बड़े पोस्टर लगे वो चर्चा का विषय बन गए

कांग्रेस के मुख्य विपक्षी नेता गुलाम नबी आजाद का हाल ही में राज्यसभा में कार्यकाल पूरा हुआ है, आजाद जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं.

सत्ता के गलियारों में ना कोई दोस्त होता है और ना कोई दु’श्मन. इन गलियारों में नजारे हमेशा बदलते रहते हैं कभी कोई अच्छा दोस्त दिखाई देता है तो कभी वही एक दूसरे के क’ट्टर दुश्मन हो जाते हैं। अक्सर राजनीति का खेल ही ऐसा है जब एक पार्टी के नेता यूं तो दूसरी पार्टी के नेताओं को गरियाते आते रहते हैं लेकिन कभी-कभी वही नेता दोस्ती की बढ़िया विशाल पेश करते हैं जिसे देखकर एक बार तो लगता है कि उनकी बरसों पुरानी कोई दोस्ती है।

ऐसा ही एक मामला हाल ही में है राज्यसभा में दिखाई दिया था जब राज्यसभा से अपना कार्यकाल पूरा कर चुके कांग्रेस के मुख्य विपक्षी नेता गुलाम नबी आजाद के विदाई समारोह पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावुक हो गए और उन्होंने वर्षों पुराने किस्से साझा किए।

गुलाम नबी आजाद के लिए लगे रेड कार्पेट व कटआउट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस के दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद की प्रशंसा करते हुए कहा था कि मैं उन्हें वर्षों से जानता हूं हम एक साथ मुख्यमंत्री भी रहे थे और हमने मुख्यमंत्री बनने से पहले भी बातचीत की थी। उन्होंने कहा कि आजाद साहब को बागवानी बहुत पसंद है लेकिन इसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। यही नहीं पीएम मोदी गुलाब नबी आजाद की बात करते-करते एकदम भावुक हो गए।

उन्होंने जम्मू कश्मीर में 2007 में हुए आ#तं’की ह’म’ले का जिक्र करते हुए कहा कि मैं कभी भी आजाद साहब और प्रणब द के प्रयासों को नहीं भूलूंगा । उन्होंने आगे कहा कि जब गुजरात के लोग जम्मू कश्मीर में हुए आ#’तंकी ह’मले के कारण फं’स गए थे तो आजाद साहब ने मुझे फोन किया था।

मुझे इसकी सूचना देने वाले सबसे पहले आजाद साहब ही थे। जब वे फोन पर बात कर रहे थे तो लग रहा था कि वे रो रहे हैं। राज्यसभा में पीएम मोदी इस घटना का जिक्र कर रहे थे तो ना सिर्फ पीएम मोदी भावुक हो गए बल्कि पास ही बैठे आजाद भी भावुक दिखे।

बीजेपी के कार्यक्रम में कांग्रेस नेता के लिए रेड कारपेट

राजनीति में बयानों की एक अलग दुनिया है लेकिन इससे दूर राजनीतिक खेल बिल्कुल अलग होता है ऐसा ही एक मामला हाल ही में सामने आया है जब बीजेपी के कार्यक्रम में कांग्रेस नेता यानी गुलाम नबी आजाद के लिए रेड कारपेट लगाया गया। यही नहीं इस कार्यक्रम में कांग्रेस नेता के बड़े-बड़े पोस्टर भी दिखाई दिए।

दरअसल दिल्ली के अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की तरफ से भारत श्रेष्ठ भारत मुशायरे का आयोजन किया गया।

इस कार्यक्रम में केंद्र सरकार की तरफ से कांग्रेस पार्टी के नेता गुलाम नबी आजाद के लिए रेड कारपेट और कटआउट लगाए गए। इस मुशायरे के कार्यक्रम में केंद्र सरकार के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और जितेंद्र सिंह भी मौजूद थे जिन्होंने कांग्रेस नेता का जोरदार स्वागत भी किया।

ऐसे में केंद्र सरकार के इस कार्यक्रम में कांग्रेस पार्टी के नेताओं के लिए रेड कारपेट और पोस्टर लगाए जाने पर यह कयास लगाए जा रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी गुलाम नबी आजाद को साधने के प्रयास कर रही है।

बीजेपी जॉइन करने पर क्या कहते हैं आजाद

जब कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद से भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन करने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जिस दिन कश्मीर में काली बर्फ होगी उस दिन भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर लूंगा या फिर किसी अन्य पार्टी में भी चला जाऊंगा।

पुणे (महाराष्ट्र) की रहने वाली 'बुशरा त्यागी' पिछले 5 वर्षों से एक Freelancer न्यूज़ लेखक (Writer) के तौर पर कार्य कर रही हैं। 16 साल की उम्र से ही इन्होंने शायरी, कहानियाँ, कविताएँ और आर्टिकल लिखना शुरू कर दिया था।