विवा'दित पत्रकार अर्नब गोस्वामी ने महाराष्ट्र विधानसभा के नोटिस पर समर्थकों से समर्थन की भावुक अपील की

विवा’दित पत्रकार अर्नब गोस्वामी ने महाराष्ट्र विधानसभा के नोटिस पर समर्थकों से समर्थन की भावुक अपील की

महाराष्ट्र विधानसभा से नोटिस मिलने के बाद रिपब्लिक टीवी के संस्थापक और एंकर अर्नब गोस्वामी की मुश्किलें बढ़ने लगी है. इसी बीच अर्नब ने अपने समर्थकों से समर्थन देने की भावुक अपील की है. अपने समर्थकों से अपील करते हुए गोस्वामी ने कहा कि वो अपने कर्यक्रम के द्वारा या तो यूट्यूब या फिर किसी अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के द्वारा उनका समर्थन करें. महाराष्ट्र विधानसभा ने अर्नब को 16 अक्टूबर को नोटिस जारी किया है.

अर्नब ने आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें शुक्रवार दोपहर 2.50 बजे महाराष्ट्र विधानसभा से नोटिस प्राप्त हुआ, जिसमें उन्हें दोपहर के 3 बजे विधानसभा में पेश होने का आदेश दिया गया था. गोस्वामी ने अपने चैनल पर कहा कि मुझे इससे क्या डर लगता है कि वो सुप्रीम कोर्ट में जवाब नहीं देते है.

लेकिन मुझे पेश होने के लिए 10 मिनट का नोटिस दिया जा रहा है, यह सीधे तौर पर सुप्रीम कोर्ट की अवमानना ​​है. अर्नब ने कहा कि वो कानून का पालन करने वाले जिम्मेदार नागरिक है और उन्होंने 15 अक्टूबर को भी एक नोटिस का जवाब दिया था.

अर्नब गोस्वामी ने कहा कि मैं एक कानून का पालन करने वाला नागरिक हूं. इस टीवी चैनल को खड़ा करने के लिए मैंने बहुत और कड़ी मेहनत की है. उन्होंने कहा कि वो जेल जाने से नहीं डरते हैं क्योंकि उन्हें इस बात की चिंता थी कि प्रक्रिया का पालन नहीं किया जा रहा है.

अर्नब गोस्वामी ने  अन्य मीडिया आउटलेट्स से भी मूक दर्शक नहीं बने रहने की अपील की है. गोस्वामी ने कहा कि भविष्य में उन्हें भी निशाना बनाया जा सकता है. वहीं जब शो में मौजूद पैनलिस्ट में से एक ने गोस्वामी को नोटिस पर लिखी तारीख को पढ़ कर बताने के लिए कहा तो अर्नब ने इस सवाल को टा’ल दिया.

आपको बता दें कि गोस्वामी और अभिनेत्री कंगना रनौत दोनों के खिलाफ महाराष्ट्र विधानसभा के दोनों सदनों में विशेषाधिकार हनन का मामला चल रहा है.

गोस्वामी पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार का अपमान करने का आरोप है. वहीं दूसरी तरफ कंगना रनौत को मुंबई को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर कहने के लिए विशेषाधिकार हनन का सामना करना पड़ रहा है.

साभार- जनता का रिपोर्टर