मेनस्ट्रीम मीडिया की बड़ी महिला पत्रकारों में घमासान, सोशल मीडिया पर एक दूसरे की फजीहत की

द वायर की पत्रकार आरफा खानम और एबीपी न्यूज़ की रुबिका लियाकत में तीखी कहा सुनी हो गयी, आरफा ने रूबिका को बताया चाटुकार

एक तरफ जहां किसान सड़कों पर अपनी मांगों को लेकर बैठे हुए हैं वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन को लेकर देश की दिग्गज हस्तियों के बीच लगातार तीखी बहस चल रही है। हालांकि किसान आंदोलन को लेकर कई दिग्गज हस्तियों में फिल्मी जगत से लेकर खेल जगत की बड़ी हस्तियां शामिल हैं जो किसानों को लगातार समर्थन देते हुए दिख रही हैं।

वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो किसान आंदोलन की वजह से किसानों पर ही आरोप लगा रहे हैं और अब इसमें देश के पत्रकार भी शामिल हो गए हैं। आज के समय में पत्रकारिता बेहद मुश्किल दौर से गुजर रही है जिसमें पत्रकार ही अच्छा और बुरा सब खुद ही तय कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला हाल ही में सामने आया जब एबीपी की पत्रकार और न्यूज़ एंकर रुबिका लियाकत ने किसान आंदोलन को लेकर किसानों पर तीखी टिप्पणी की है।

रुबिका अपने शो में MSP के फायदे और नुकसान बता रही थी

arfa

जो कि अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। आपको बता दें एबीपी की पत्रकार और न्यूज़ एंकर रुबिका लियाकत ने अपने शो के दौरान कहा कि किसानों को एमएसपी देने से सरकारी खजाने पर बोझ बढ़ जाएगा। गौरतलब है कि देशभर के किसान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं जिसमें उनकी प्रमुख मांग एमएसपी को लेकर भी है।

हालांकि कुछ किसानों का कहना है कि वह इन तीनों काले कानूनों को वापस करवा कर ही आंदोलन खत्म करेंगे जब तक सरकार इन काले कानूनों को वापस नहीं ले लेती उनका आंदोलन जारी रहेगा। लेकिन पत्रकारों की इस तरह की टिप्पणी से लोगों में खासी नाराजगी दिखाई दे रही है। रुबिका ने अपने शो में एमएसपी के फायदे और नुकसान बताना शुरू कर दिया।

रुबिका अपने शो में कह रही थी कि सरकार अभी कुछ फसलों को एमएसपी देकर खरीद रही है लेकिन अगर सोचिए सरकार सारी फसलों को एमएसपी पर खरीदती है तो देश की अर्थव्यवस्था कैसे चलेगी।

रुबिका की इस टिप्पणी के बाद देश के पत्रकारों ने ही उन्हें आड़े हाथों लिया है पत्रकार रोहिणी ने रुबिका लियाकत पर निशाना साधते हुए लिखा कि “जब पत्रकार सरकार द्वारा लिखी गयी ‘प्रेस रिलीज’ पढ़ कर सुनाने लगें तब लोकतंत्र का कमजोर होना लाजमी है। यहाँ रुबिका लियाकत बता रही हैं कि किसानों को MSP देने से अर्थव्यवस्था की कमर टूट जाएगी। पत्रकारिता के भेष में बैठे ‘पार्टी प्रवक्ताओं’ को पहचानिए।

वहीं इसी मामले पर पत्रकार आरफा खानम शेरवानी ने भी रुबिका को आड़े हाथों लिया है उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि रोहिणी लगे हाथों इनसे यह भी पूछ लीजिए कि यह कौन सा टॉनिक लेती हैं चाटुकारिता करती हुई आखिर थकती क्यों नहीं।