VIDEO: राफेल विमान पर रवीश कुमार ने भांड मीडिया को यूं लपेटा कहा- सांप सूंघ गया पाकिस्तान को....

VIDEO: राफेल विमान पर रवीश कुमार ने भांड मीडिया को यूं लपेटा कहा- सांप सूंघ गया पाकिस्तान को….

राफेल लड़ा’कू विमानों की पहली खेप फ़्रांस से भारत पहुंच चुकी है. माना जा रहा है कि राफेल के भारत आने से भारत की ताकत में इजाफ़ा हुआ है. वहीं जब राफेल विमान ने भारतीय वायुसीमा में अपनी एंट्री मा’री तो उनकी सुरक्षा के लिए SU30 MKI विमान आसमान में पहुंच गए थे. आपको बता दें कि पांच राफेल लड़ा’कू विमान लगभग 7,000 किलोमीटर की दूरी तय कर फ्रांस से हरियाणा के अंबाला एयरबेस पहुंचे हैं.

भारतीय मीडिया ने 5 राफेल विमानों के भारत पहुंचने का जमकर कवरेज किया है. जिस तरफ से राफेल पर न्यूज़ चैनलों ने कवरेज किया है, उसे लेकर वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने मीडिया पर तं’ज कसा है. मीडिया चैनलों को रोस्ट करते हुए रवीश कुमार ने कहा कि मैंने तो इससे पहले भी कई बार कहा था कि न्यूज़ चैनल देखना बंद कर देना चाहिए.

एनडीटीवी पर अपने शो प्राइम टाइम के दौरान पत्रकार रवीश कुमार ने न्यूज चैनलों की राफेल कवरेज पर खूब चुटकी ली. रवीश ने कहा कि मीडिया चैनलों के न्यूज़ एंकरों का बस चलता तो वह राफेल विमान के नटबोल्ट खोलकर भी दर्शकों को दिखा देते.

न्यूज़ चैनलों को रवीश ने राफेल विमान मुद्दे पर जिस तरह से रोस्ट किया है वो लोगों को खूब पसंद आ रहा है. प्राइम टाइम शो के बाद से ही रवीश ट्वीटर पर ट्रेंड करने लगे. सोशल मीडिया पर लोग रवीश के प्रोग्राम के स्क्रीनशॉट्स औऱ वीडियो शेयर करते हुए न्यूज़ चैनलों का मजाक उड़ा रहे हैं.

वहीं ऐसे भी बहुत से लोग जिन्हें रवीश की यह बातें ठीक नहीं लगी और वो उन्हें ट्रोल करने लगे. इस प्राइम टाइम का वीडियो रवीश ने अपने फेसबुक अकाउंट से भी शेयर किया हैं.

रवीश कुमार ने वीडियो को साझा करते हुए लिखा है कि काश लोग मेरी बात मानकर टीवी देखना बंद कर देते. कोई नहीं, मैंने तो हमेसा यह बात कहीं है तो खुल कर ही कही हैं. अफसोस अब उन पर होता है जो जानते हैं कि न्यूज़ चैनल ख़’त्म हो गए और उनके कारण लोग.

लेकिन इसके बाद भी लोग उन्हीं चैनलों पर लौटते हैं. चैनल बीस साल की आलोचनाओं को झेल गए. बदतर ही हुए, लेकिन अब जनता ही जनता नहीं रही है और चैनलों ने विजय प्राप्त कर ली है. वो यही करना चाहते थे कि जनता ख’त्म हो जाए. राफेल के कवरेज संसार राफेल से नहीं शुरू होता है और ना ही राफेल पर ख़त्म होता हैं.

साभार- जनसत्ता