सांसों का रुक जाना ही मौ’त नहीं, हर वोह इंसान म’रा हुआ है, जिसमे गलत को गलत कहने की हिम्मत नहीं है

आज हम ऐसे दौर में जी रहे हैं, जहां सच बोलना भी अब गुनाह हो गया है. जहां अब कुछ भी संभव है अगर कोई गलत कह रहा हो तो उसके खिलाफ बोलना भी पाप हो गया है चाहे सरकार हो या कोई और.. देश की जो बुनियाद है यानी संविधान आज उसकी धज्जिया उड़ाई जा रही है अगर कोई आवाज उठती भी है तो उसका गला ऐसे घोटा जाता है कि मानो वो जानवर से भी बे बत्तर हो.

उस निर्दोष पर ऐसे ऐसे कानून लगाए जाते है..जिसका उन्होंने सपनों में भी तसव्वुर ना किया हो, आज हमारे बीच ऐसे कई नौजवान, भाई, बहन जिन पर झूठ का षडयंत्र रच कर उन्हें ज़बरदस्ती सलाखों के पीछे ढकेलने पर मजबूर कर दिया गया है.

और वह बिना खता के आज उन चहार दिवारी में कैद होकर रह गए हैं. जो असली इंसानियत के दुश्मन है वह आज हमारे बीच सरे आम घूम रहे है उन पर किसी भी तरह की कोई पाबंदी नहीं है. देश किस दिशा में जा रहा है और हम क्या कर रहे है किसी को कोई फर्क नहीं है जिन्हे फर्क पड़ता है उन्हें सलाखों के पीछे ढकेल दिया जाता है.

जिनमे कई जाबाज़ का नाम शामिल है और एक नाम है
#सफूरा_जरगर
पति:- सबूर अहमद
जिला:- किस्तवाड़
राज्य:- जम्मू और कश्मीर

जिनकी खता बस ये थी कि काले कानून (CaaNprNrc) के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की थी. एक संवैधानिक तरीके से. और आज लॉकडाउन की आड़ में उन्हें और ऐसे बहुत से बेगुनाहों को जेल में डाल दिया गया है.

तकलीफ की बात ये हैं की वह #हामिला है और आज एक #बहन कि #आंचल पर बद से बत्तर सवाल उठाए जा रहे कुछ अक्ल के अंधों के जरिए. जबकि उनकी #शादी:- अक्टूबर 2018 में हो गई थी.

ऐसी अभद्र टिप्पणी सिर्फ वहीं कर रहे है जिन्हे ना अपनी बहन की इज्जत है और ना ही किसी और की. संयोग की बात तो ये है ना ही कोई महिला आयोग उनके लिए खड़ा है और ना ही सरकार के कानों तले जुं रेंग रही है. इतना बेदर्द और बेरहम तो एक दरिंदा भी नहीं होता है जितना ये हैं.

यह उस सविंधान का घनघोर अपमान है जिसे #बाबा_साहेब ने ये सोच कर रचना कि थी कि सभी को एक भारतीय समझा जाएगा सभी का सम्मान होगा, सब बराबर होंगे और आज एक भारतीय बेटी का सरे आम अपमान हो रहा हैं.

लिहाज़ा #सरकार से दर्खुआस्त है कि उन पर लगे सारे झूठे केस वापस लिया जाए उन्हें और जो बेगुनाह फसाए गए है. सभी को रिहा किया जाए.

(यह लेख AIMIM NATIONAL के HelloAp से साभार किया गया है)