फ़ोटो- सऊद अरब 7 महीने से लंबे प्रतिबंध के बाद सामने आया 'उमराह' करते हुए ज़ायरीनों का ख़ूबसूरत नज़ारा

फ़ोटो- सऊद अरब 7 महीने से लंबे प्रतिबंध के बाद सामने आया ‘उमराह’ करते हुए ज़ायरीनों का ख़ूबसूरत नज़ारा

मक्का: कोरोना वायरस महामा’री के चलते बंद हुए मक्का के दरवाजे आज से फिर खुल गए है, आखिरकार हरम शरीफ में फिर से रौनक लौट आयी है। आप सुबह फ़ज्र में उमराह ज़ायरीनों का पहला काफिला मस्जिद अल हरम पहुंचा। जैसे से उमराह शुरू हुआ इसकी बेहद ख़ूबसूरत नज़ारा सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा.

मक्का को अब 7 महीने बाद श्रद्धालुओं के लिए खोला गया है. सउदी अरब ने यह फैसला उमरा ज़ायरीनों को ध्यान में रखते हुए लिया है. विदेशी ज़ायरीनों को 1 नवंबर से वहां जाने की इजाजत होगी उमरा के लिए हर साल वैसे तो लाखों की संख्या में ज़ायरीन मक्का पहुंचते हैं. लेकिन इसबार ऐसा नहीं होगा. कोरोना महामारी को देखते हुए प्रशासन कई सावधानियां बरतने वाला है.

 

मिली जानकारी के मुताबिक, तीन स्टेज पर ज़ायरीन पहुंचेंगे. पहले फेज़ में 6 हजार लोग होंगे. इनके साथ आसपास के लोग भी होंगे. बताया गया है कि लोगों को ग्रु’प्स में बांटा जाएगा और सोशल डिस्टेंस का पूरा ख्याल रखा जाएगा.

बाद में 18 अक्टूबर से ज़ायरीन की संख्या को 15 हजार प्रति दिन तक बढ़ाए जाने का विचार है. फिर आगे इसे 40 हजार प्रति दिन किया जा सकता है. विदेशी यात्री 1 नवंबर से मक्का दर्शन को जा सकेंगे. तब मस्जिद में 60 हजार लोगों की इजाजत होगी.

आपको बता दें कि, सऊदी प्रेस मंत्रालय द्वारा दिए गए एक बयान में सऊदी अरब के हज मंत्रालय और उमराह ने एक बयान में कहा कि सितम्बर 27 से 1 अक्टूबर 2020 तक ईतमरना (Itamarna) आवेदन के लॉन्च के बाद कुल 108,041 उमराह परमिट जारी किए गए है.

(Itamarna- यह वो ऐप है जिसके जरिये आप उमराह परमिट हासिल कर सकते है।)

मंत्रालय द्वारा उद्धृत आंकड़ों के मुताबिक, कुल परमिटों में से, 42,873 नागरिकों को जारी किए गए है, जबकि 65,128 विभिन्न राष्ट्रीयताओं के प्रवासियों को दिए गए थे.

इस ऐप के लॉन्च के पहले घंटे में, आवेदन में लगभग 16,000 तीर्थयात्रियों का पंजीकरण किया गया, जबकि लॉन्च के पहले सप्ताह में पंजीकृत व्यक्तियों की कुल संख्या 309,686 तक पहुंच गई, जिनमें से 224,929 आवेदक हैं और 84,757 उनके साथी हैं.