शाहीन बाग की दादी ‘बिलकिस बानो’ उतरीं ‘किसान आन्दोलन’ में, पुलिस ने हिरासत में लिया

किसान आन्दोलन में समर्थन देने के लिए पहुँचीं शाहीन बाग की दादी 'बिलकिस बानो (Bilkis Bano) को पुलिस द्वारा गिरफ़्तार कर लिया गया है

दिल्ली: देश में चल रहे किसान आंदोलन (Farmers Protest) में हर रोज कुछ ना कुछ नया देखने को मिल रहा है. धीरे धीरे देश की बड़ी-बड़ी हस्तियां इस पर बयान देती नजर आ रही हैं, बॉलीवुड से लेकर राजनीति के दिग्गज लोग एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं तो कुछ किसानों का समर्थन करते भी नजर आ हैं.

आपको बता दें कि देश में पिछले 6 दिन से किसान आंदोलन जारी है देशभर के किसान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ सड़कों पर बैठे हुए हैं। किसानों का मानना है कि इस आंदोलन से सरकार की नींद खुलेगी और वह किसानों की मांगों पर कोई ना कोई फैसला देगी।

शाहीन बाग की दादी
शाहीन बाग की दादी

हालांकि किसान इन कृषि कानूनों में किसी भी प्रकार की छूट नहीं चाहते उनका कहना है कि जब तक केंद्र सरकार इन कानूनों को वापस नहीं ले लेती वह यहां से पीछे नहीं हटेंगे वहीं सरकार बार-बार किसानों से यही कह रही है कि यह कानून उनकी जिंदगी को बदलने वाले हैं पर किसानों को ऐसा नहीं लगता है.

बिल्किस बानो किसान आन्दोलन में समर्थन देने के लिए पहुँचीं

साल 2020 में यह नाम सबसे ज्यादा चर्चा में रहा यह वही बिलकिस बनों हैं जिन्हें शाहीन बाग़ की दादी कहा जाता है, ये तीन महीनों तक नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ धरना देती रहीं थीं, और अब एक बार फिर बिल्किस बानो (शाहीन बाग़ की दादी) के नाम से मशहूर विल्किस किसानों के समर्थन में उतर आयीं हैं।

बिल्किस बानो ने कहा हम किसान की बेटियाँ

किसान आंदोलन को लेकर विल्किस दादी ने कहा कि ‘हम किसानों की बेटियां हैं हम किसानों के विरोध का समर्थन करेंगे सरकार को हमारी बातें सुननी चाहिए’।

आपको यह भी बता दें कि पिछले साल शाहीन बाग प्रदर्शन से चर्चा में आई विलकिस दादी को टाइम मैगजीन की 100 सबसे प्रतिभाशाली लोगों की लिस्ट में भी चुना गया था और अब यह कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन पर किसानों के समर्थन में उतरने से एक बार फिर चर्चा में हैं।

शाहीन बाग की दादी ‘बिलकिस बानो’ गिरफ़्तार

आपको बता दें कि शाहीन बाग प्रदर्शन से चर्चा में आई विल्किस सिंधु बॉर्डर पर किसानों के समर्थन के लिए पहुंची जहां उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

केंद्र सरकार के इन कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब और हरियाणा के किसानों का आंदोलन जारी है हालांकि आज किसान नेता और सरकार के बीच वार्ता भी हुई है।